Saturday, Jan 22, 2022
-->
coronavirus cases in china wuhan may be 10 times higher than reported prsgnt

चीन के वुहान में छुपाए गए 10 गुना से ज्यादा कोरोना संक्रमण के मामले, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

  • Updated on 12/31/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चीन के वुहान से आने वाले कोरोना वायरस (Corona virus) का पहली बार पता वहां के मीट बाजार से पता लगा था। हालांकि इस बारे में कोई पुख्ता रिपोर्ट सामने नहीं आई थी लेकिन अब चायनीज सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (CDC) ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि 19 अप्रैल तक वुहान के 1.1 करोड़ लोगों में से 4.4%  लोगों में कोविड 19 पैदा करने वाले वायरस की एंटीबॉडी बन चुकी थी। 

इस रिपोर्ट के अनुसार अप्रैल के आखिर तक वुहान में 480,000 लोगों कोरोना संक्रमित हो चुके थे। हालांकि तब तक आधिकारिक आंकड़ों में शहर के लिए यह संख्या सिर्फ 50,000 तक ही बताई जा रही थी। 

कोरोना वैक्सीन को लेकर आई गुड न्यूज, ब्रिटेन ने दी ऑक्सफोर्ड वैक्सीन को मंजूरी

चीन की हुई आलोचना 
इन बातों को छुपाने के कारण ही चीन को दुनियाभर में काफी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है। शुरूआती समय में जब चीन से कोरोना दुनिया में फैला था तब उच्च स्तर के राजनेताओं की सलाह पर मीडिया आदि के मुंह बंद करवा दिए गए थे। इतना ही नहीं, जनवरी में चीन से कोई नया मामला सामने न आने की बात कही गई थी। 

Corona के नए स्ट्रेन से हुई नई मानसिक बीमारी 'कोविड साइकोसिस' की पुष्टि, क्या है यह पढ़ें रिपोर्ट

जानकारी देने वाली पत्रकार को मिली जेल 
वहीँ, दुनियाभर में सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी देने वाली चीन की जर्नलिस्टर झांग झान को 'झगड़ा करने' और 'समस्या ओं को उकसाने' का दोषी बता कर उन्हें 4 साल की जेल की सजा सुनाई गई है। झांग उन सिटीजन पत्रकारों में शामिल हैं जो वुहान में कोरोना वायरस का खुलासा करने पर मुश्किल में आ गए थे। सभी जानते हैं कि चीन में कोई भी फ्री मीडिया यानी स्वतंत्र रूप से काम करने वाली मीडिया नहीं है और चीन में उन लोगों पर कार्रवाई की जाती है कि जो कोरोना वायरस को लेकर चीन सरकार की नीतियों पर सवाल उठाते हैं।

झांग के वकील के अनुसार, झांग फरवरी के महीनें में कोरोना वायरस को लेकर स्वतंत्र रूप से रिपोर्टिंग करने के लिए वुहान गईं थीं। उन्होंने वहां कई लाइव वीडियो और रिपोर्ट बनाई थीं जिसे फरवरी में सोशल मीडिया पर टैग किया गया था। 

2025 तक ब्रिटेन को पछाड़कर दुनिया की पांचवीं बड़ी अर्थव्यवस्था बनेगा भारत, पढ़ें रिपोर्ट

एंटीबॉडीज के लोगों की संख्या ज्यादा  
वहीँ, सीडीसी की रिपोर्ट और वहां के सेरोलॉजिकल एक्सपर्ट क्विन यिंग ने बताया कि आंकड़ों में जो अंतर दिख रहा है वो सिर्फ चीन में ही नहीं है। यह इसलिए भी है क्योंकि ज्यादार मामलों में एंटीबॉडीज के साथ पाए गए लोगों की संख्या संक्रमण के पुष्ट मामलों की संख्या से कई गुना अधिक है और इस तरह के अंतर मिलना काफी आम है। 

सीडीसी रिपोर्ट के अनुसार, वुहान के बाहर हुबई प्रांत के केवल 0.44 फीसदी आबादी में ही वायरस के एंटीबॉडीज मिले हैं। इससे इस बात का अनुमान लगाया जा सकता है कि शहर में 77 दिन के लॉकडाउन ने इस बीमारी को फैलने से रोक मदद की होगी। जानकारी के अनुसार, ये आंकड़े देश भर में 34,000 लोगों पर किए गए सर्वे के बाद तैयार किए गए थे। 

यहां पढ़े अन्य खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.