Tuesday, Dec 06, 2022
-->
coronavirus-corona-cases-are-increasing-but-mortality-is-falling-prshnt

Coronavirus: कोरोना मामलों में हो रही वृद्धि लेकिन गिर रहा है मृत्यु दर

  • Updated on 3/13/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी की दूसरी लहर ने खतरे को और बढ़ा दिया है, एक संकेत यह है कि बीमारी की गंभीरता पहले की तुलना में काफी कम है, क्योंकि अब पहले की तुलना में मृत्यु दर में कमी आई है। भारत का समग्र मामला घातक अनुपात (CFR) के रूप में मौतों की संख्या लगभग 1.4 प्रतिशत है। इसका मतलब है कि अब तक हर 1,000 की पुष्टि की गई संक्रमणों में से 14 लोगों की मृत्यु हो गई है। लेकिन जनवरी से संक्रमित होने वालों में यह अनुपात केवल 0.87 प्रतिशत है।

इस साल के पहले दो महीनों में भारत ने कोरोनो वायरस संक्रमण के 8,06,453 मामलों की पुष्टि की। आंकड़ों के मुताबिक संक्रमण के दो से तीन सप्ताह बाद आमतौर पर मौतें होती हैं। 11 जनवरी से 11 मार्च के बीच के दो महीनों में देश भर में कुल 6,979 मौतें हुई हैं।

जेपी नड्डा के आवास पर बंगाल BJP कोर ग्रुप की बैठक, शाह समेत कई दिग्गज मौजूद

महाराष्ट्र वर्तमान में चल रही दूसरी लहर का केंद्र बना
महाराष्ट्र में मौत का अधिक आंकड़ा है प्रमुख है, देश में सभी कोरोनो वायरस से संबंधित मौतों का लगभग एक तिहाई और सभी संक्रमणों का 20 प्रतिशत है वहीं महाराष्ट्र वर्तमान में चल रही दूसरी लहर का केंद्र भी है। महाराष्ट्र में समग्र सीएफआर लगभग 2.38 प्रतिशत है, लेकिन इस साल संक्रमित होने वालों में यह आंकड़ा लगभग आधा है, जो लगभग 1.2 प्रतिशत है। फरवरी के महीने के लिए, जब दूसरी लहर शुरू हुई, सीएफआर और भी कम है सिर्फ 1 फीसदी।

पोंजी घोटाला मामले में CBI ने TMC सरकार में मंत्री पार्थ चटर्जी को किया तलब

पहली लहर के चरम पर स्थिति के समान
नए संक्रमण बहुत अधिक दुग्ध लक्षण पैदा कर रहे हैं। महाराष्ट्र के कोविद -19 निगरानी अधिकारी डॉ. प्रदीप आवटे ने कहा कि यह पहली से संक्रमण की दूसरी लहर है। डॉ अवेट ने कहा कि साप्ताहिक आंकड़ों पर सीएफआर हाल के हफ्तों के लिए और भी अधिक गिरावट दर्शाता है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र, जो वर्तमान में प्रतिदिन 13,000-14,000 मामलों की रिपोर्टिंग कर रहा है, अंतत पहली लहर के चरम पर स्थिति के समान, 20,000 मामलों की दैनिक गिनती को छू सकता है।

ममता बनर्जी की चोट की रिपोर्ट से संतुष्ट नहीं चुनाव आयोग, मुख्य सचिव से कहा- स्पष्ट बताएं

स्कूलों कॉलेजों को बंद रखने का निर्देश
बता दें कि महाराष्‍ट्र समेत देश के कई राज्‍यों में कोरोना के बढ़ते मामलों ने एकबार फिर पाबंदियों की वापसी करा दी है। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए नागपुर के साथ परभणी जिले में भी लॉकडाउन लगाया गया है। यही नहीं पुणे जिला प्रशासन ने नई गाइडलाइन जारी करते हुए 31 मार्च तक स्कूलों कॉलेजों को बंद रखने का निर्देश दिया है। महाराष्ट्र में शुक्रवार को 15,817 नए केस मिले जबकि 56 लोगों की मौत हो गई।पंजाब के कुछ इलाकों में नाइट कर्फ्यू लगाने की घोषणा की गई है। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.