Friday, May 07, 2021
-->
coronavirus covid 19 bp research sobhnt

अध्ययन में हुआ बड़ा खुलासा, BP की दवाओं से कोविड को किया जा सकता है कम

  • Updated on 8/24/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्च रक्तचाप की दवाओं से कोविड-19 से जीवित रहने की दर में सुधार हो सकता है। साथ ही इससे कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) की गंभीरता में भी कमी आ सकती है। यह बात एक अध्ययन में सामने आयी है। ब्रिटेन के यूनिर्विसटी आफ ईस्ट एंगलिया के अध्ययनकर्ताओं ने उच्च रक्तचाप की दवाएं ले रहे 28,000 रोगियों पर अध्ययन किया है।

कोरोना संकट में पित्रोदा ने शुरू किया सूचना पोर्टल, किसानों की करेगा मदद  

अध्धयन में हुआ खुलासा
‘करंट एथरोस्कलेरोसिस रिपोट्स’पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि उच्च रक्तचाप की दवाएं एंजियोटेंसिन-कन्निजंग एंजाइम इनहिबिटर्स (ECIC) या एंजियोटेंसिन रिसेप्टर ब्लॉकर्स (ARBS) ले रहे उन रोगियों के गंभीर रूप से कोविड-19 की चपेट में आने या मौत का खतरा कम है जो उच्च रक्तचाप से पीड़ित हैं।       

चीन का ‘बायो हथियार’ है कोरोना वायरस, पूरी दुनिया को जैविक युद्ध में झोंका:  इंद्रेश कुमार  

रोगियों पर किया गया परीक्षण
यूनिर्विसटी आफ ईस्ट एंगलिया के नोविक मेडिकल स्कूल की ओर से इस अध्ययन में शामिल प्रमुख अध्ययनकर्ता वैसिलियोस वैसिलिओऊ ने कहा कि हमने पाया कि उच्च रक्तचाप से पीड़ित एक तिहाई कोविड-19 रोगी और कुल रोगियों के चौथाई रोगियों को एसीईआई या एआरबीएस (ARBS) दी जा रही हैं। हो सकता है कि ऐसा हृदय रोग, उच्च रक्तचाप और मधुमेह के मरीजों के संक्रमण की चपेटे में आने के खतरे को देखते हुए किया जा रहा हो।
 

यहां पढ़ें अन्य महत्वपूर्ण खबरें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.