Friday, Nov 27, 2020

Live Updates: Unlock 6- Day 27

Last Updated: Thu Nov 26 2020 09:22 PM

corona virus

Total Cases

9,291,068

Recovered

8,700,681

Deaths

135,533

  • INDIA9,291,068
  • MAHARASTRA1,795,959
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA878,055
  • TAMIL NADU768,340
  • KERALA578,364
  • NEW DELHI551,262
  • UTTAR PRADESH533,355
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA315,271
  • TELANGANA263,526
  • RAJASTHAN240,676
  • BIHAR230,247
  • CHHATTISGARH221,688
  • HARYANA215,021
  • ASSAM211,427
  • GUJARAT201,949
  • MADHYA PRADESH188,018
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB145,667
  • JHARKHAND104,940
  • JAMMU & KASHMIR104,715
  • UTTARAKHAND70,790
  • GOA45,389
  • PUDUCHERRY36,000
  • HIMACHAL PRADESH33,700
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,691
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,647
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,312
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
Coronavirus Covid 19 pregnant woman palwal lockdown Migrant  Workers  SOBHNT

10 दिन पैदल चलने के बाद महिला ने रोड पर दिया बेटी को जन्म, कई दिनों से नहीं खाया खाना

  • Updated on 5/4/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। लॉकडाउन देश को कोरोना (Corona virus) से तो राहत दे रहा है मगर कुछ लोगों को जरुरत से ज्यादा दर्द भी दे रहा है। जिनमें सबसे ज्यादा प्रताड़ित प्रवासी मजदूर हो रहे हैं। लॉकडाउन ने मजदूरों के सामने खाने-पीने से लेकर रोजगार तक का संकट पैदा कर दिया है। जिसके कारण यह मजदूर बिना पैसे के भूखे-प्यासे अपने घर जाने को मजबूर हैं। वहीं ऐसी ही अब खबर हरियाणा के पलवल से आ रही है जहां तपती धूप में पैदल अपने घर जाती भूखी महिला ने रास्ते में ही एक बच्ची को जन्म दे दिया है। 

सोनिया गांधी ने किया बड़ा ऐलान, बोलीं- घर लौट रहे मजदूरों की टिकट का पैसा हम देंगे

कई दिनों से थी भूखी
बता दें पलवर के केएमपी एक्सप्रेस के जरिए अपने घर पैदल राजस्थान जाती इस महिला ने रास्ते में ही एक बेटी को जन्म दिया है। पिछले 3-4 दिन से यह लोग वहीं एकदीक में रतीपुर गांव में तपती धूप में रह रहे थे मगर किसी ने इनकी सुध नहीं ली। बताया गया कि यह लोग पिछले कई दिनों से भूखे थे। इनकी सूचना जब समाजसेवी संस्था रोटरी क्लब संस्कार तब पहुंची तो उन्होंने महिला और बच्ची दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया है। 

Lockdown 3.0 : दिल्ली में बाहर निकलने से पहले जान लें, क्या खुला और क्या है बंद?

10-12 दिन से चल रही थी पैदल
बता दें महिला का कहना है कि वह लोग अपने गांव राजस्थान जा रहे थे। रास्ते में यह बच्ची हो गई। वह लोग पिछले कुछ दिनों से भूखे हैं। इससे पहले वह लगातार 10-12 दिन से पैदल चल रहे थे। मगर किसी ने उनकी मदद नहीं की। फिल्हाल संस्था ने महिला और बच्ची दोनों को कपड़े और कुछ खाने-पीने की चीजों समेत राशन दे दिया है।
 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

comments

.
.
.
.
.