Friday, May 29, 2020

Live Updates: 65th day of lockdown

Last Updated: Thu May 28 2020 09:53 PM

corona virus

Total Cases

165,028

Recovered

70,556

Deaths

4,695

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA59,546
  • TAMIL NADU18,545
  • NEW DELHI16,281
  • GUJARAT15,572
  • RAJASTHAN7,947
  • MADHYA PRADESH7,453
  • UTTAR PRADESH6,991
  • WEST BENGAL4,192
  • ANDHRA PRADESH3,245
  • BIHAR3,036
  • KARNATAKA2,418
  • PUNJAB2,139
  • TELANGANA2,098
  • JAMMU & KASHMIR1,921
  • ODISHA1,593
  • HARYANA1,381
  • KERALA1,004
  • ASSAM784
  • UTTARAKHAND469
  • JHARKHAND458
  • CHHATTISGARH364
  • CHANDIGARH287
  • HIMACHAL PRADESH273
  • TRIPURA242
  • GOA68
  • PUDUCHERRY49
  • MANIPUR44
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA20
  • NAGALAND9
  • ARUNACHAL PRADESH2
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2
  • DAMAN AND DIU2
  • MIZORAM1
  • SIKKIM1
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
coronavirus lockdown indian economy cycle stop gdp may down niti aayog worried rdksnt

Corona लॉकडाउन के बीच रुका भारतीय अर्थव्यवस्था का चक्र, GDP पर नीति आयोग चिंतित

  • Updated on 3/29/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना लॉकडाउन का असर अब देश की अर्थव्यवस्था पर भी पड़ता नजर आ रहा है। कोरोबार डप हो गया है, वहीं देश में पेट्रोल-डीजल की खपत भी खत्म हो गई है। कोरोना संक्रमण के बाद देश में आर्थिक हालात भी खराब होते दिख रहे हैं। नीति आयोग ने भी जीडीपी में भारी गिरावट आने का अनुमान लगाया है। माना जा रहा है कि अगर हालात जल्द नहीं सुधरे तो जीडीपी में नकारात्मक तक गिरावट दर्ज की जा सकती है। 

कोरोना लॉकडाउन: देशभर में मजदूरों का पालयन जारी, आनंद विहार बस अड्डे का बुरा हाल

गिरावट का दौर सभी सेक्टरों में देखा जा सकता है। ऑटो इंडस्ट्री को इससे भारी चपट लग सकती है। सभी ने अपना उत्पादन कोरोना को देखते हुए बंद करना पड़ा है। शहरों में उत्पादों की मांग गिर गई है,वहीं गांवों में भी कृषि क्षेत्र बेहाल है। देश का ऑयल सेक्टर भी इससे अछूता नहीं है। इसकी वजह से तेल कंपनियों को कच्चे तेल की सप्लाई रोकनी पड़ी है। सभी तेल कंपनियों के टैंक फुल हैं और मांग न होने की वजह से खास ऑयल रिफाइनरीज ने मिडिल ईस्ट से कच्चे तेल की सप्लाई रोकने का फैसला किया है।

कोरोना के ताजा हालात पर आज मन की बात करेंगे पीएम मोदी

लॉकडाउन के बाद अब ऑयल कंपनियों की भी हालत खस्ता हो गई है। कंपनियों के ईंधन स्टोर फुल हैं, लेकिन खरीदार गयब हो गए हैं। सड़क, रेल, वायु परिवहन पूरी तरह ठप पड़ गया है। देश के उत्पादन में गिरावट आ गई है। कंपनियों के ऐहतियातन बंद होने से उत्पादन ठप हो गया है।

कोरोना का इटली में कहर, 1 दिन में ही 1000 मरे, विश्व में 26 हजार से ज्यादा

इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन ने अपने नाफ्था प्लांट की कैपेशिटी में 30 से 40 फीसदी तक कटौती कर दी है। कंपनी ने क्रुड आपूर्ति करने वाली कंपनियों को यह कहते हुए कच्चा तेल लेने से इंकार कर दिया है कि उनके टैंक फुल हैं। अब वे इससे ज्यादा स्टोरेज नहीं कर सकते हैं। 

coronavirus Test अब मिनटों में, अमेरिकी कंपनी ने तैयार किया खास डिवाइस

इस बीच मैंगलोर रिफाइनरीज एंड पेट्रोकेमिकल्स लिमिटेड ने फिलहाल अपनी रिफाइनिंग को बंद कर दिया है। कई और कंपनियां भी ऐसा ही कदम उठा सकती हैं। देशव्यापी लॉकडाउन ने तेल कंपनियों को बुरी तरह प्रभावित किया है। कोरोना के चलते ग्लोबल स्तर पर भी कच्चे तेल की मांग में 20 फीसदी की कमी आने के आसार हैं। 

Corona लॉकडाउन: मजदूरों के पलायन पर राहुल, प्रियंका ने मोदी सरकार को चेताया

 

यहां पढ़ें कोरोना के जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें 

क्या है कोरोना वायरस? जानें, बीमारी के कारण, लक्षण व समाधान

इन आयुर्वेदिक उपायों का करें इस्तेमाल, नहीं आएगा Coronavirus पास 

coronavirus: 5 दिन में दिखे ये लक्षण तो जरूर कराएं जांच 

यदि आपका है यह Blood Group तो जल्द हो सकते हैं कोरोना वायरस के शिकार 

कोरोना वायरस: जिम बंद हुए हैं एक्सरसाइज नहीं, 'वर्क फ्रॉम होम' की जगह करें 'वर्कआऊट फ्रॉम होम' 

Coronavirus को रखना है दूर तो डाइट में शामिल करें ये 7 चीजें 

कोरोना वायरस : मास्क के इस्तेमाल में भी बरतें सावधानियां, ऐसे करें यूज 

कोरोना वायरस से जुड़े ये हैं कुछ खास मिथक और उनके जवाब 

मिल गया Coronavirus का इलाज! जल्द ठीक हो सकेंगे सभी संक्रमित 

लॉक डाऊन है तो फिक्र क्या, बैंक कराएंगे आपके पैसे की होम डिलीवरी

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.