Friday, Jul 10, 2020

Live Updates: Unlock 2- Day 10

Last Updated: Fri Jul 10 2020 04:12 PM

corona virus

Total Cases

798,128

Recovered

497,193

Deaths

21,654

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA230,599
  • TAMIL NADU114,978
  • NEW DELHI107,051
  • GUJARAT39,280
  • UTTAR PRADESH31,156
  • TELANGANA25,733
  • ANDHRA PRADESH25,422
  • KARNATAKA25,317
  • RAJASTHAN23,814
  • WEST BENGAL22,987
  • HARYANA19,736
  • MADHYA PRADESH15,284
  • BIHAR14,330
  • ASSAM11,737
  • ODISHA10,624
  • JAMMU & KASHMIR8,675
  • PUNJAB6,491
  • KERALA5,623
  • CHHATTISGARH3,305
  • UTTARAKHAND3,161
  • JHARKHAND2,854
  • GOA1,813
  • TRIPURA1,580
  • MANIPUR1,390
  • HIMACHAL PRADESH1,077
  • PUDUCHERRY1,011
  • LADAKH1,005
  • NAGALAND625
  • CHANDIGARH490
  • DADRA AND NAGAR HAVELI373
  • ARUNACHAL PRADESH270
  • DAMAN AND DIU207
  • MIZORAM197
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS141
  • SIKKIM125
  • MEGHALAYA88
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
coronavirus lockdown readers fond of stories literature online e book in demand rkdsnt

कोरोना लॉकडाउन में लोगों को लगा कहानियों का चस्का, ऑनलाइन ई-बुक डिमांड में

  • Updated on 4/7/2020


नई दिल्ली/अनामिका सिंह। एक विशेष उम्र के लोग आज भी अपने घरों में छोटी लाइब्रेरी बनाना और वहां बैठकर पढ़ना ही नहीं बल्कि राजधानी की अलग-अलग लाइब्रेरी में पुस्तकों को पढ़ना व खरीदना पसंद करते हैं। ऐसे पाठकों को आजकल काफी परेशानी हो रही है और वो घर में अपना समय काट नहीं पा रहे थे। 

कोरोना कहर : मरकस निजामुद्दीन गए लोगों के साथ अस्पतालों को भी दिल्ली पुलिस की चेतावनी

ऐसे पाठकों को ध्यान में रखकर अब कई प्रकाशकों ने ऑनलाइन पीडीएफ फ़ाइल मौजूद करवाई है, किसे अपलोड कर पाठक अपनी मनपसंद किताब का मजा ले सकते हैं, वहीं प्रकाशकों ने ऑनलाइन उपन्यास, कहानियां व काव्य संग्रह सुनने की भी व्यवस्था की है।

भारत के इस राज्य के सीएम ने 3 जून तक बढ़ाया कोरोना लॉकडाउन, लेकिन फिर....


प्रकाशकों ने पाठकों के लिए खास इंतजाम 
बता दें कि, मशहूर पुराने लेखकों द्वारा लिखित किताबों के साथ ही समकालीन लेखकों की किताबें स्टोरी टेल के माध्यम से सुनी जा सकती हैं। जिसके लिए प्रकाशकों द्वारा विशेष रूप से बनवाया गया एप्प आप अपने  मोबाइल या लैपटॉप पर डाउनलोड कर इससे सेवा का लाभ ले सकते हैं।

ट्रंप की धमकी पर अनुराग कश्यप का इशारों में PM मोदी पर कटाक्ष, बोले- चाचू...

मजे की बात ये है कि अधिकतर समकालीन लेखकों द्वारा खुद अपनी पुस्तकों को पढ़ा जा रहा है। जिससे पाठक किताब से खुद को जुड़ा हुआ महसूस कर रहे हैं। इतना ही नहीं प्रकाशक रोजाना अपने फेसबुक पेज या फिर ट्वीटर एकाउंट से एक लेखक को लाइव अपनी कहानी या कविता पढ़ने का अवसर दे रहे हैं। जिसके लिए एक दिन पहले निर्धारित समय पाठकों को दिया जाता है। इससे पाठकों में काफी उत्साह है। 

पीडीएफ फ़ाइल में दीं विभिन्न भाषाओं की पुस्तकें
कुछ पाठकों ने बताया कि जबसे ये सुविधाएं मिली हैं घर के सभी लोग एकत्र होकर समय का इंतजार करते हैं और साथ बैठकर कहानी व कविताओं का आनंद लेते हैं।

हनुमान चालीसा की तर्ज पर अब सुनिए कोरोना चालीसा, सोशल मीडिया पर वायरल

साहित्यकार भी करते हैं पाठकों से जुड़ाव महसूस
अभी तक साहित्यकार और पाठक की मुलाकात शब्दों के माध्यम से होती थी लेकिन अब साहित्यकारों की आवाज़ और भावों को भी देख सकते हैं। पाठक इस दौरान उनसे कमेंट बॉक्स में जाकर सवाल भी पूछते हैं जो उन्हें काफी अच्छा लग रहा है।

कमल हासन ने लिखा पीएम मोदी को पत्र, बोले- कोरोना लॉकडाउन नोटबंदी से बड़ी गलती

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.