Saturday, May 30, 2020

Live Updates: 66th day of lockdown

Last Updated: Fri May 29 2020 10:05 PM

corona virus

Total Cases

172,569

Recovered

81,842

Deaths

4,971

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA62,228
  • TAMIL NADU20,246
  • NEW DELHI17,387
  • GUJARAT15,944
  • RAJASTHAN8,158
  • MADHYA PRADESH7,645
  • UTTAR PRADESH7,170
  • WEST BENGAL4,813
  • ANDHRA PRADESH3,330
  • BIHAR3,185
  • KARNATAKA2,533
  • TELANGANA2,256
  • PUNJAB2,158
  • JAMMU & KASHMIR2,036
  • ODISHA1,660
  • HARYANA1,504
  • KERALA1,089
  • ASSAM881
  • UTTARAKHAND500
  • JHARKHAND470
  • CHHATTISGARH398
  • CHANDIGARH289
  • HIMACHAL PRADESH281
  • TRIPURA244
  • GOA69
  • MANIPUR55
  • PUDUCHERRY53
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA21
  • NAGALAND18
  • ARUNACHAL PRADESH3
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2
  • DAMAN AND DIU2
  • MIZORAM1
  • SIKKIM1
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
coronavirus relief rbi pause emi loan

कोरोना वायरस: RBI गवर्नर ने रेपो रेट में की भारी कटौती, करोड़ों लोगों को मिली राहत

  • Updated on 3/27/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण पूरा देश लॉकडाउन (Lockdown) हो गया है। ऐसे में सरकार लोगों की जितनी मदद कर सकती है उससे ज्यादा करने की कोशिश कर रही है। इस वायरस के बढ़ते प्रभाव के बीच रिजर्व बैंक (RBI) ने शुक्रवार को अर्थव्यवस्था (Economy) में नकदी प्रवाह बढ़ाने और कर्ज सस्ता करने के लिये रेपो दर, नकद आरक्षित अनुपात (CRR) रिवर्स रेपो दर में बड़ी कटौती की घोषणा की।

कोरोना का कहर, मोदी सरकार ने किया आर्थिक पैकेज का ऐलान

RBI ने रेपो रेट .75 बेसिस पॉइंट घटाया
रिजर्व बैंक ने यह कदम सरकार की तरफ से गुरुवार को गरीबों, बुजुर्गों और महिलाओं के लिए 1.70 लाख करोड़ रुपये का राहत पैकेज घोषित किये जाने के एक दिन बाद उठाया है। केन्द्रीय बैंक (Central Bank) ने शुक्रवार को मौद्रिक नीति की तीन दिवसीय समिति की बैठक के बाद शुक्रवार को रेपो दर (Repo rate) में .75 प्रतिशत की कटौती कर दी। इस कटौती के बाद रेपो दर 4.40 प्रतिशत पर आ गई।

कोरोना कहर के बीच राहत, देश के सभी हाइवे पर टोल कलेक्शन सस्पेंड

RBI ने रिवर्स रेपो रेट 90 बेसिस प्वॉइंट घटाया
इसके साथ ही रिवर्स रेपो दर में भी .90 प्रतिशत की कटौती कर इसे 4 प्रतिशत पर ला दिया। रिजर्व बैंक ने बैंकों के नकद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) में भी एक प्रतिशत की कमी की है जो कि घटकर तीन प्रतिशत रह गई। इन तमाम उपायों से अर्थव्यवस्था में 3.74 लाख करोड़ रुपये की नकदी बढ़ने का अनुमान है।

रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने कहा कि रिजर्व बैंक मिशन में रहकर काम कर रहा है। मौजूदा परिस्थिति में जो भी जरूरी होगा रिजर्व बैंक वह कदम उठायेगा। उन्होंने कहा कि मौद्रिक नीति समिति की बैठक पहले अप्रैल के प्रथम सप्ताह में होनी थी लेकिन मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए इसे 25 से 27 मार्च के बीच कर दिया गया। शक्तिकांत दास ने कहा कि सीआरआर में कटौती, रेपो दर आधारित नीलामी समेत अन्य कदम से बैंकों के पास कर्ज देने के लिए 3.74 लाख करोड़ रुपये के बराबर अतिरिक्त नकद धन उपलब्ध होगा।

कोरोना के बीच लॉक डाउन, खरीददारी को उमड़े लोग, PM मोदी ने फिर की ये अपील

EMI में मोहलत
केंद्रीय बैंक ने देश व्यापी बंदी के चलते कर्ज की किस्त चुकाने में दिक्कतों को देखते हुये बैंकों को सावधिक कर्ज की वसूली में तीन माह टालने की सहूलियत दी है। इसके साथ कार्यशील पूंजी पर ब्याज भुगतान पर भी तीन माह के लिये रोक लगाने की अनुमति दी गयी है। केन्द्रीय बैंक ने कहा है कि उसके सीआरआर में कटौती और नकद धन का प्रवाह बढ़ाने के कुछ अन्य उपायों से बैंकिंग जगत में 3.74 लाख करोड़ रुपये की नकदी उपलब्ध होगी। केन्द्रीय बैंक ने कर्ज देने वाले सभी वित्तीय संस्थानों को सावधि कर्ज की किस्तों की वसूली पर तीन महीने तक रोक की छूट दी साथ ही कार्यशील पूंजी पर ब्याज भुगतान को टाले जाने को चूक नहीं माना जाएगा, इससे कर्जदार की रेटिंग (क्रेडिट हिस्ट्री) पर भी असर नहीं पड़ेगा ऐसा उन्होंने आश्वासन दिया है।

5 राज्यों की इन 12 प्राइवेट लैब में हो सकेगी कोरोना वायरस की जांच, केंद्र सरकार ने दी अनुमति

RBI ने कर्ज देने वाले संस्थानों को दिए निर्देश
रिजर्व बैंक ने शुक्रवार को कर्ज देने वाले सभी वित्तीय संस्थानों से ग्राहकों को कर्ज की मासिक किस्त यानी ईएमआई के भुगतान में तीन महीने की छूट देने को कहा। कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिये देश भर में आवागमन पर पाबंदी से लोगों को हो रही समस्या को देखते हुए यह कदम उठाया गया है। साथ ही आरबीआई ने बैंकों को कार्यशील पूंजी के लिए दिए गए कर्ज पर ब्याज तीन महीने जून 2020 तक टालने की भी अनुमति भी दी है। इन उपायों से उन लोगों और इकाइयों को राहत मिलेगी जो आर्थिक गतिविधियां ठप होने से प्रभावित हैं तथा ऋण की किस्त देने की स्थिति में नहीं हैं। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मौजूदा स्थिति असाधारण है, सभी आर्थिक गतिविधियां पूरी तरह ठप है। ऐसे में संकट में फंसी अर्थव्यवस्था की मदद के लिये बड़े कदम उठाने की जरूरत है। दास ने यह भी कहा कि कर्ज की किस्त और ब्याज तीन महीने के टाले जाने को चूक नहीं माना जाएगा और इससे कर्जदार की साख खराब नहीं होगा।

RBI के ऐलान से पहले ही दिख गया था बाजार पर उम्मीदों का असर

बैंक मजबूत, लोग घबराकर बैंकों से पैसा नहीं निकाले- RBI
रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने जमाकर्ताओं की चिंताओं को दूर करते हुए कहा कि देश की बैंक प्रणाली पूरी तरह सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि बैंक के शेयर भाव में कमी को जमा की सुरक्षा से जोड़ना गलत धारणा पर आधारित है। यस बैंक संकट और कोरोना वायरस महामारी के बाद बैंकों के शेयरों की कीमतें के नीचे आने के बाद दास ने यह बात कही। उन्होंने जमाकर्ताओं से यह भी आग्रह किया कि वे घबराकर बैंकों से पैसा नहीं निकाले। दास ने कहा, 'मैं इस बात को दोहराता हूं कि भारतीय बैंक प्रणाली सुरक्षित और मजबूत है।'

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Coronavirus: भारत में इस वजह से नहीं बढ़ेगा डेथ रेट, जानिए क्या कहती है नई रिपोर्ट

क्या अखबार पढ़ने से हो सकता है कोरोना का संक्रमण? जानिए क्या कहता है WHO

लॉकडाउन: Flipkart यूजर्स के लिए बुरी खबर, कंपनी ने बंद की ये Services

देश में हुए लॉकडाउन के मद्देनजर रेल सेवाएं अब 14 अप्रैल तक रहेंगी बंद

सामने आई Coronavirus की सबसे बड़ी कमजोरी, अब आपके पास नहीं भटकेगा ये वायरस

कोरोना वायरस : जानिए आखिर क्या है 21 दिनों के लॉकडाउन के पीछे का लॉजिक

21 दिनों के लॉकडाउन में घर पर रह कर न हों परेशान, सरकार दे रही है आपको ये सुविधाएं

लॉकडाउन का पहला दिन: Social Distancing के साथ सामान खरीदते हुए दिखे लोग

कोरोना संकट के बीच आज वाराणसी की जनता से मुखातिब होंगे PM मोदी

Corona Virus के दौरान न करे इस दवा का सेवन! हो सकती है मौत

comments

.
.
.
.
.