Sunday, Jun 07, 2020

Live Updates: Unlock- Day 6

Last Updated: Sat Jun 06 2020 07:55 PM

corona virus

Total Cases

246,544

Recovered

118,684

Deaths

6,936

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA80,229
  • TAMIL NADU28,694
  • NEW DELHI26,334
  • GUJARAT19,119
  • RAJASTHAN10,084
  • UTTAR PRADESH9,733
  • MADHYA PRADESH8,996
  • WEST BENGAL7,303
  • KARNATAKA4,835
  • BIHAR4,598
  • ANDHRA PRADESH4,112
  • HARYANA3,281
  • TELANGANA3,147
  • JAMMU & KASHMIR3,142
  • ODISHA2,608
  • PUNJAB2,415
  • ASSAM2,116
  • KERALA1,589
  • UTTARAKHAND1,153
  • JHARKHAND889
  • CHHATTISGARH773
  • TRIPURA646
  • HIMACHAL PRADESH383
  • CHANDIGARH304
  • GOA166
  • MANIPUR124
  • NAGALAND94
  • PUDUCHERRY90
  • ARUNACHAL PRADESH42
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA33
  • MIZORAM22
  • DADRA AND NAGAR HAVELI14
  • DAMAN AND DIU2
  • SIKKIM2
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
Coronavirus RML Hospital Delhi Patient in queue

Coronavirus: RML अस्पताल में बड़ी खामियां! संभावित संक्रमित लोग लगे रहे कतार में

  • Updated on 3/5/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। एक निजी कंपनी के आईटी विभाग में कार्यरत एक कर्मचारी हनीमून के लिए वल्र्ड टूर पर गया था। लौटने पर उसकी तबियत बिगड़ी और जांच में कोरोना (Coronavirus) की पुष्टि हुई। एम्स (AIIMS) से डॉक्टरों की टीम उसके पश्चिमी दिल्ली स्थित घर पहुंची और उसे अस्पताल ले जाया गया। पीड़ित ऑफिस भी गया था, इस कारण एहतियातन कंपनी को कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया गया है और सभी कर्मचारियों से जांच कराने के लिए कहा गया।  

कोरोना प्रभावित शख्स के सभी सहकर्मी (करीब 25 की संख्या में) आरएमएल अस्पताल (RML Hospital) जांच कराने पहुंचे तो डॉक्टरों ने पहले तो उन्हें यह कहते हुए इंतजार करने के लिए कहा कि सरकार के निर्देशों के मुताबिक पहले विदेश यात्रा से लौटे संभावितों की जांच की जाएगी। जिन लोगों ने विदेश यात्रा की है, उनकी जांच इनके बाद की जाएगी। सवाल यह भी है कि कोरोना के इतने उच्च संभावित श्रेणी के मरीजों को खुले आसामान के नीचे कतार में खड़ा कर पंजीकरण की प्रक्रिया पूरा करना क्या सुरक्षित है?

Coronavirus को रखना है दूर तो डाइट में शामिल करें ये 7 चीजें

तैयारियों में खामियां
कुल मिलाकर देखा जाए तो आरएमएल अस्पताल को देखकर यह स्पष्ट हो जाता है कि कोरोना वायरस की रोकथाम और नियंत्रण को लेकर उनकी तैयारियों में किस कदर की खामियां हैं। ऐसे उच्च श्रेणी के संभावितों को खुले आसमान के नीचे कतार में खड़ा करने से वहां से गुजरने वाले दूसरे मरीजों और उनके परिजनों में संक्रमण का जोखिम नहीं होगा। 

कोरोना वायरस से जुड़े ये हैं कुछ खास मिथक और उनके जवाब

लगातार बढ़ रही जांच कराने वालों की तादाद
सूत्र बताते हैं कि आइसोलेशन वार्ड के अतिरिक्त आरएमएल अस्पताल प्रशासन एक ऐसा सुरक्षित स्थान तय करने में जुटा हुआ है, जहां कोरोना संभावित लोगों को दूसरे मरीजों और उनके तिमारदारों सहित अस्पताल आने वाले अन्य लोगों से अलग-थलग रखा जा सके और उनका पंजीकरण और जांच की प्रक्रिया पूरी की जा सके। लेकिन अस्पताल प्रशासन अभी तक ऐेसा स्थान तय नहीं कर पाया है। दूसरी ओर जांच करवाने के लिए अस्पताल आने वाले लोगों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है।

आप भी कर रहे हैं यात्रा तो ऐसे करें Coronavirus से खुद का बचाव

सर्तक नहीं RML अस्पताल!
वहीं आरएमएल अस्पताल में कोरोना संदिग्धों को आइसोलेशन में रखने के दौरान जैसी सतर्कता होनी चाहिए वैसा माहौल दिखाई नहीं दे रहा है। दरियागंज की निवासी मंजरी (परिवर्तित नाम) इंडोनेशिया (बाली) की यात्रा कर हाल ही में लौटी थी। लौटने के बाद उन्हें कोरोना वायरस जैसे लक्षण महसूस हुए। तत्काल जांच के लिए वह राममनोहर लोहिया अस्पताल पहुंचीं। वहां के डॉक्टरों ने सैंपल्स इकट्ठे किए और उन्हें एहतिहातन दो दिनों के लिए भर्ती कर लिया।

मंजरी के मुताबिक आइसोलेशन वार्ड में जब उन्हें भर्ती किया गया तो पूरे एक दिन तक न तो उन्हें कोई दवा दी गई और न ही उनकी रुटीन जांच की गई। यह सब देखकर उन्हें हैरानी हुई। उन्होंने दवा के लिए जब नॄसग कर्मचारी से पूछा तो पता चला कि उनका नाम रजिस्टर में दर्ज ही नहीं हुआ, जिसके कारण आपको क्या दवा दी जानी है, इसका कोई निर्देश ही नहीं था। मंजरी ने इस पर आपत्ति जताई, तब जाकर नाम रजिस्टर में दर्ज किया गया और दवा दी गई और जांच शुरू की गई।

comments

.
.
.
.
.