Thursday, Apr 09, 2020
Coronavirus Students will sit one meter away in board examinations CBSE

कोरोना प्रभाव- बोर्ड परीक्षाओं में एक मीटर दूरी पर बैठेंगे छात्र, CBSE ने दिए ये आदेश

  • Updated on 3/18/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने परीक्षा केंद्रों अधीक्षकों के नाम जारी किए एक पत्र में कोरोना वायरस (Coronavirus) को फैलने से रोकने के लिए निवारक उपायों का पालन करने के निर्देश दिए हैं। जिसमें बोर्ड ने परीक्षा कक्षों में हर छात्र के बीच 1 मीटर की दूरी का प्रावधान तय किया है। बोर्ड ने परीक्षा केंद्र अधीक्षकों को भेजे पत्र में कहा कि 165 विषयों में बोर्ड परीक्षाएं सम्पन्न की जा चुकी हैं।

51 विषयों में परीक्षाएं अब आयोजित होनी हैं, जो छात्रों की अधिक संख्या वाले विषय हैं उनके एग्जाम 18, 20, 21, 23 और 24 मार्च को हैं। इसके बाद की परीक्षाओं में पूरे देश से 3000 से लेकर 58000 छात्र ही रजिस्टर्ड हैं। इसलिए सभी परीक्षा केंद्र अधीक्षक केंद्र के परीक्षा कक्षों में छात्रों के सीटिंग प्लान में 1-1 मीटर की दूरी रखें। बता दें कोरोना वायरस फैलने से बचने के लिए जारी किए गए दिशा निर्देशों में यह कहा गया है कि संक्रमित व्यक्ति से 1 मीटर की दूरी रखने पर आपको कोरोना नहीं फैलेगा। इस बाबत सीबीएसई इस प्रावधान को बोर्ड परीक्षाओं में रख रहा है। 

Coronavirus: भारत में संक्रमित मामलों की संख्या पहुंची 143, स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किए निर्देश

चेकिंग करने वाली टीम मास्क का प्रयोग करे
परीक्षा केंद्र के उप-अधीक्षक, चेकिंगकर्ता की टीम छात्रों की चेकिंग करते समय चेहरे पर मास्क, रूमाल, कपड़े को लगाकर ही ड्यूटी करें। 

खांसी-जुकाम होने पर छात्र को अलग परीक्षा दिलाएं
किसी छात्र को अगर परीक्षा कक्ष में खांसी, जुकाम के लक्षण दिखते हैं तो उसे एक फेस मास्क दिया जाए। परीक्षा केंद्र अधीक्षक तुरंत उस छात्र की परीक्षा के लिए एक अलग स्थान तय करें। 

जल्द ही एक शिफ्ट में चलेंगे 92 सरकारी स्कूल, जानें क्यों लिया गया ये फैसला

कमरा छोटा होने पर एक कमरे में 12 छात्र बैठेंगे
बोर्ड ने कहा है कि यदि परीक्षा कक्ष छोटा है और 1-1 मीटर का सीटिंग प्लान अगर नहीं सभव है तो स्कूल के एक कक्ष में 12 छात्रों को ही बिठाया जाए।

लाइब्रेरी, लैब, सभागार का हो इस्तेमाल
बता दें कि फिलहाल स्कूल के एक परीक्षा कक्ष में 24 छात्र बैठकर परीक्षा देते हैं। बोर्ड ने कहा है कि अगर परीक्षा केंद्र में कमरे कम है और छात्रों की संख्या ज्यादा है हर छात्र के मध्य एक मीटर की दूरी बनाना संभव नहीं है तो स्कूल में बनी लाइब्रेरी, लैब और सभागारों का इस्तेमाल किया जाए और छात्रों के बीच दूरी एक मीटर ही रखी जाए।

comments

.
.
.
.
.