Monday, Jun 27, 2022
-->
court dismisses gautam navlakha plea for house arrest rkdsnt

गौतम नवलखा की घर में नजरबंद रखने संबंधी याचिका अदालत ने की खारिज

  • Updated on 4/26/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बंबई उच्च न्यायालय ने मंगलवार को एल्गार परिषद-माओवादी संबंध मामले में आरोपी गौतम नवलखा की उस याचिका को खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने खुद को तलोजा जेल में न्यायिक हिरासत के बजाय घर में नजरबंद रखे जाने का आग्रह किया था। 

गाजीपुर लैंडफिल के बाद भलस्वा लैंडफिल स्थल पर लगी आग, AAP का BJP पर हमला

  •  

न्यायमूर्ति एस बी शुक्रे और न्यायमूर्ति जी ए सनप की पीठ ने याचिका को खारिज कर दिया और कहा कि अगर नवलखा को तलोजा जेल में चिकित्सा सहायता एवं बुनियादी सुविधाओं की कमी से संबंधित कोई शिकायत है तो उन्हें इस बारे में विशेष एनआईए अदालत को सूचित करना चाहिए। नवलखा ने जेल में मूलभूत सुविधाओं की कमी का हवाला देते हुए खुद को घर में नजरबंद रखे जाने का आग्रह किया था। 

कुमार विश्वास ने FIR रद्द करने के लिए हरियाणा हाई कोर्ट से लगाई गुहार

उच्च न्यायालय ने नवी मुंबई स्थित तलोजा जेल के अधीक्षक को भी निर्देश दिया कि आरोपी को चिकित्सा किट और आवश्यक चिकित्सा सहायता प्रदान की जानी चाहिए। नवलखा तलोजा जेल में विचाराधीन कैदी के रूप में बंद हैं। पीठ ने कहा, 'मौजूदा याचिका खारिज की जाती है। याचिकाकर्ता जेल में अपने सामने आ रहीं कठिनाइयों के संबंध में विशेष एनआईए अदालत के पीठासीन अधिकारी से शिकायत करने को स्वतंत्र है।'

LIC के IPO के लिए शेयर मूल्य का निर्धारण, पॉलिसीधारकों को मिलेगी छूट

इसने कहा कि उक्त अधिकारी को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया जाता है कि कानून के मानकों के भीतर शिकायत का निवारण किया जाए। नवलखा ने इस साल की शुरुआत में अधिवक्ता युग चौधरी के माध्यम से उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था और आग्रह किया था कि उन्हें न्यायिक हिरासत के बजाय घर में नजरबंद रखा जाए। कार्यकर्ता ने अपने बुजुर्ग होने और कई बीमारियों से पीड़ित होने का हवाला दिया था। 

राजद्रोह मामला : राणा दंपति की जमानत याचिका पर सुनवाई 29 अप्रैल को

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.