Wednesday, May 12, 2021
-->
court-refuses-to-consider-plea-for-relaxation-in-age-limit-for-anti-corona-vaccination-rkdsnt

कोरोना रोधी टीकाकरण के लिए उम्र सीमा में ढील संबंधी याचिका पर विचार करने से कोर्ट का इनकार 

  • Updated on 4/13/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली उच्च न्यायालय ने मंगलवार को एक याचिका पर विचार करने से इनकार कर दिया जिसमें केंद्र और दिल्ली सरकार को कोविड-19 रोधी टीकाकरण के लिए उम्र मानकों में ढील देने तथा अभियान में निजी क्षेत्र की ज्यादा भागीदारी को लेकर निर्देश का अनुरोध किया गया। जस्टिस राजीव सहाय एंडलॉ और जस्टिस अमित बंसल की पीठ ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि समाज की भलाई से ज्यादा प्रचार पाने के लिए जनहित याचिका दाखिल की गयी है। 

अपने चुनाव प्रचार पर पाबंदी के विरोध में धरने पर बैठीं ममता, निशाने पर EC

पीठ ने कहा, ‘‘प्रारंभिक नजर में हमारी राय है कि अदालत को ऐसे मामलों से नहीं निपटने की जरूरत हैं जहां प्रयोग आधारित आंकड़ों की जरूरत है।’’ अदालत ने कहा कि चूंकि याचिकाकर्ता अपनी याचिका वापस ले रहा है और परिणाम को जानता है तथा भविष्य में वह इस तरह की याचिकाएं दाखिल नहीं करेगा इसलिए जुर्माना नहीं लगाया जा रहा। 

कांग्रेस नीत महागठबंधन ने आयोग से मतगणना के दौरान पारदर्शिता रखने का किया अनुरोध

उच्च न्यायालय की पीठ दिल्ली विश्वविद्यालय के कानून के अंतिम वर्ष के एक छात्र की याचिका पर सुनवाई कर रही थी। याचिका में राष्ट्रीय राजधानी में वरिष्ठ नागरिकों, दिव्यांग लोगों और समाज के कमजोर तबके के लोगों के फायदे के लिए घर-घर जाकर टीकाकरण अभियान चलाने को लेकर निर्देश देने का अनुरोध किया गया। 

संजय राउत बोले- कुम्भ मेले से लौटने वाले लोग बढ़ा सकते हैं कोरोना महामारी को

याचिकाकर्ता मृगांक मिश्रा की तरफ से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता आशीष मोहन ने कहा कि कोरोना वायरस के मामलों में लगातार हो रही बढोतरी और संक्रमण की पहली लहर की तुलना में दूसरी लहर के ज्यादा गंभीर होने के कराण टीकाकरण अभियान को तेज करने की जरूरत है। इसमें निजी क्षेत्र को भी शामिल किया जाए ताकि जल्दी से टीकाकरण हो और वरिष्ठ नागरिकों को घर पर टीका लेने की अनुमति दी जाए। 

ममता पर बैन से बौखलाई TMC, कहा- BJP ब्रांच की तरह बर्ताव कर रहा है चुनाव आयोग

सुनवाई के दौरान अदालत ने याचिकाकर्ता के वकील से पूछा कि दिल्ली में सरकारी और निजी स्वास्थ्य केंद्रों में कितने लोगों को टीके की खुराक दी जा रही है और शहर में कितने टीके उपलब्ध हैं। पीठ ने कहा कि जब तक टीके की ज्यादा उपलब्धता ना हो याचिकाकर्ता के लिए टीकाकरण अभियान को विस्तार करने का अनुरोध नहीं करना चाहिए। अदालत ने कहा कि ऐसा लगता है कि याचिकाकर्ता को इस बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है और प्रचार पाने के लिए याचिका दाखिल कर दी गयी।     

भाजपा नेतृत्व वाले राजग से अलग हुई गोवा फॉरवर्ड पार्टी 

 

 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें... 

comments

.
.
.
.
.