Wednesday, Oct 20, 2021
-->
court-reserves-order-on-kangana-ranaut-request-to-quash-defamation-proceedings-rkdsnt

मानहानि की कार्यवाही खारिज करने के कंगना के अनुरोध पर कोर्ट ने आदेश रखा सुरक्षित

  • Updated on 9/1/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बंबई उच्च न्यायालय ने बॉलीवुड संगीतकार जावेद अख्तर की शिकायत पर शहर की एक मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अदालत द्वारा शुरू की गयी अवमानना कार्यवाही खारिज करने के लिए अभिनेत्री कंगना रनौत की अर्जी पर बुधवार को अपना आदेश सुरक्षित रख लिया। रनौत ने अपने वकील रिजवान सिद्दिकी के मार्फत मानहानि की कार्यवाही को चुनौती दी है और कहा कि उपनगर अंधेरी की मजिस्ट्रेट अदालत इस मामले में अपने विवेक का इस्तेमाल नहीं किया। 

सूरज पाल अमू, नरसिंहानंद के खिलाफ FIR दर्ज करने को लेकर कोर्ट ने मांगी एक्शन रिपोर्ट

 रनौत ने अपनी अर्जी में कहा कि निचली अदालत ने शिकायतकर्ता एवं उनके विरूद्ध दर्ज शिकायत में नामजद गवाहों का स्वतंत्र रूप से परीक्षण नहीं किया बल्कि उसने बस जुहू पुलिस के विवेक पर भरोसा कर लिया एवं उनके विरूद्ध मामला शुरू कर दिया। सिद्दिकी ने बुधवार को जस्टिस रेवती मोहिते-डेरे की एकल पीठ से कहा कि अख्तर की शिकायत की पुलिस जांच ‘एकतरफा’ है। उन्होंने अपनी मुवक्किल की ओर से कहा, ‘‘ मेरे गवाहों का कभी परीक्षण ही नहीं किया गया। मजिस्ट्रेट को यह सुनिश्चित करना चाहिए था कि किसी भी पक्ष का उत्पीड़न नहीं हो। ’’

यति नरसिंहानंद सरस्वती ने अब NCW की अध्यक्ष रेखा शर्मा के खिलाफ कहे अपशब्द

 हालांकि अख्तर के वकील जय भारद्वाज ने पीठ से कहा कि मजिस्ट्रेट ने अख्तर की शिकायत और साक्षात्कार के अंश पर गौर करने के बाद पुलिस जांच का आदेश दिया , साक्षात्कार के दौरान रनौत ने कथित मानहानिकारक बयान दिया था। उन्होंने कहा कि पुलिस ने रनौत समेत गवाहों एवं संबंधित व्यक्तयों को सम्मन जारी किया था ताकि जांच निष्पक्ष सुनिश्चित हो लेकिन अभिनेत्री ने सम्मन का कभी जवाब नहीं दिया। 

राहुल गांधी बोले- प्रधानमंत्री मोदी के चार-पांच मित्रों का हो रहा है मौद्रिकरण

अख्तर ने पत्रकार अर्णब गोस्वामी के साथ साक्षात्कार के दौरान कथित रूप से मानहानिकारक एवं बेबुनियादी आरोप लगाने को लेकर पिछले साल रनौत के विरूद्ध अंधेरी मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के सामने शिकायत दर्ज करायी थी। उच्च न्यायालय नौ सितंबर को रनौत की अर्जी पर अपना आदेश सुना सकता है। 

42 मामलों में भ्रष्ट अफसरों पर कार्रवाई की CVC की सलाह को किया ‘नजरअंदाज’ : रिपोर्ट 

comments

.
.
.
.
.