Wednesday, Oct 05, 2022
-->
court seeks status report from rbi regarding ''''''''online'''''''' lending platforms at high interest rkdsnt

ऊंचे ब्याज पर ‘ऑनलाइन’ कर्ज देने वाले मंचों के बारे में कोर्ट ने मांगी RBI से स्टेटस रिपोर्ट

  • Updated on 4/6/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को भारतीय रिजर्व बैंक से मोबाइल ऐप के जरिये ऊंचे ब्याज पर कर्ज की पेशकश करने वाले ‘ऑनलाइन’ मंच से जुड़े मुद्दों पर गौर करने के लिये गठित समिति की रिपोर्ट के क्रियान्वयन को लेकर उठाये गये कदमों के बारे में जानकारी देने को कहा।  

कांग्रेस का BJP पर हमला, कहा- मुल्क के लोग ‘महंगे मोदीवाद’ से त्रस्त

कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश विपिन सांघी और न्यायाधीश नवीन चावला की पीठ के समक्ष रिजर्व बैंक की तरफ से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता वी गिरि ने कहा कि समिति की रिपोर्ट पर सुझाव आमंत्रित करने के लिये इसे सार्वजनिक किया जा रहा है। इस पर अदालत ने कहा, ‘‘प्रतिवादी सुनवाई की अगली तारीख को रिपोर्ट के क्रियान्वयन को लेकर स्थिति रिपोर्ट दे।’’ 

न्यायाधीशों की निजी विदेश यात्रा पर केंद्र का कार्यालय ज्ञापन निरस्त

मामले की अगली सुनवाई 20 जुलाई को होगी। अदालत जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही है। इसमें मोबाइल ऐप के जरिये छोटी अवधि के लिये ऊंचे ब्याज पर व्यक्तिगत कर्ज देने वाले मंचों के नियमन का आग्रह किया गया है। इसमें कहा गया है कि ऐसे कर्ज भुगतान में देरी होने पर लोगों को कथित रूप से अपमानित और परेशान किया जाता है। 

ये बिल MCD के एकीकरण का बिल नहीं, 'केजरीवाल फोबिया बिल" है : संजय सिंह

सुनवाई के दौरान जनहित याचिका के समर्थन में पेश वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने कहा कि समिति की रिपोर्ट प्राप्त करने के बाद सरकार या आरबीआई ने कुछ भी नहीं किया है और समस्या जस-की-तस बनी हुई है।

गौरी लंकेश की हत्या मामले में सुनवाई 27 मई से शुरू होगी 

 

 

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.