Sunday, Oct 02, 2022
-->
covid-19-vaccine-sputnik-v-russia-corona-vaccine-oxford-university-vaccine-sohsnt

भारत में भी बनेगी रूस की कोरोना वैक्‍सीन, जल्द शुरू होगा क्लिनिकल ट्रायल

  • Updated on 9/9/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। चीन (China) से निकले कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर दुनियाभर के कई देशों में तेजी से फैलता जा रहा है। इल समय कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) को लेकर दुनिया के कई देशों में ट्रायल चल रहे हैं। ऐसे में रूस (Russia) की कोरोना वैक्सीन 'स्पूतनिक वी' (Sputnik V) का तीसरे यानी अंतिम चरण का ट्रायल इस महीने से भारत में शुरू हो सकता है।

भारत में जनवरी 2021 में आ जाएगी कोरोना वैक्सीन, इतनी होगी कीमत...

इन देशों में होगा वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल
इस वैक्सीन के लिए फंड देने वाली एजेंसी रशियन डॉयरेक्ट इनवेस्ट फंड का कहना है कि इस वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल भारत समेत यूएई, सऊदी अरब, फिलीपींस और ब्राजील में इस महीने से शुरू हो जाएगा। इसके साथ ही बताया गया कि वैक्सीन के तीसरे फेज के क्लिनिकल ट्रायल का प्राइमरी रिजल्ट अक्टूबर-नवंबर में जारी किया जा सकता है।

बढ़ी चिंता! WHO ने कहा- अगले साल के मध्य तक नहीं बनेगी कोरोना वैक्सीन

भारतीय कंपनियां कर सकती हैं उत्पादन
दरअसल, भारतीय कंपनियां वैक्सीन के उत्पादन को लेकर रूस की ओर से किए गए अनुरोध पर विचार कर रही हैं। वहीं भारत आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षण की अनुमति दे चुका है। इसके अलावा भारत में विकसित 'भारत बायोटेक और कैडिला-जायडस' वैक्सीन भी अपने दूसरे चरण के ट्रायल में है।

ऑस्ट्रेलिया ने बनाई कोरोना वैक्सीन, मानव ट्रायल में नहीं मिला कोई Side effect

वैक्सीन का भारत में उत्पादन चाहता है रूस
वैक्सीन ट्रायल को लेकर गठित उच्चाधिकार समिति के अध्यक्ष और नीति आयोग के सदस्य डाक्टर वीके पॉल ने बताया कि रूस न सिर्फ भारत में इसके फेज-तीन का ट्रायल करना चाहता है बल्कि वह भारतीय कंपनियों की मदद से बड़े पैमाने पर इसका उत्पादन भी करना चाहता है। ऐसे में अब भारत इस वैक्सीन के फेज तीन ट्रायल की अनुमति देने पर विचार कर रहा है।

चीन ने कीड़ों से बनाई कोरोना वैक्सीन, ह्यूमन ट्रायल को मिली मंजूरी

देश में पहले से ही चल रहा है तीन वैक्सीन पर ट्रायल

भारत में कोरोना महामारी का प्रकोप तेजी से बढ़ता जा रहा है। ऐसे में देश किसी और देश की वैक्सीन पर पूरी तरह से निर्भर नहीं रह सकता है। इसी कारण देश में रूसी वैक्सीन से पहले ही तीन वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। इनमें भारत बायोटेक के वैक्सीन फेज-दो ट्रायल, कैडिला-जायडस के फेज-दो का ट्रायल और तीसरा वैक्सीन आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी का है, जिसे भारत में सीरम इंस्टीट्यूट बनाने जा रहा है। इसके तीसरे फेज का परीक्षण भी जल्द ही शुरू होगा।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.