Monday, Oct 25, 2021
-->
covid19-india-gdp-data-and-top-economies-have-suffered-worst-gdp-fall-prsgnt

कोरोना के कारण दुनिया में मची तबाही लेकिन फिर चीन ने कैसे संभाल ली अपनी अर्थव्यवस्था, पढ़ें रिपोर्ट

  • Updated on 9/1/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना संकट (Corona) के कारण भारत को आर्थिक रूप से सबसे बड़ा घाटा हुआ है। देश की अर्थव्यवस्था (Economy) पिछले 40 सालों में सबसे खस्ता हालत में है। जीडीपी के आंकड़ों को लेकर राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही (Q1) के आंकड़े जारी किए। इन आंकड़ों के अनुसार, इस साल की पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट माइनस में गई है। ये माइनस 23.9% दर्ज की गई है। 

इन आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल-जुलाई में भारत का राजकोषीय घाटा (fiscal deficit) 8.21 लाख करोड़ रुपये दर्ज किया गया। जबकि इसी अवधि में पिछले साल यह 5.47 लाख करोड़ रुपये था। ये पहली तिमाही में कुल राजकोषीय घाटा बजट अनुमान के 103.1% तक पहुंच गया है।

अन्य देशों का क्या है हाल 
कोरोना महामारी के कारण न सिर्फ भारत में बल्कि दुनिया के दूसरे देशों के भी हालात काफी खराब हैं लेकिन भारत के आर्थिक हालात सबसे बुरी स्तिथि में हैं। कोरोना संकट दुनियाभर में फैला लेकिन इसकी मार सबसे अधिक भारत में पड़ी है। यही कारण है कि कोरोना के जन्मदाता चीन एक मात्र ऐसा देश है जिसकी अर्थव्यवस्था प्लस में गई है। जबकि अमेरिका, इटली, फ्रांस, कनाडा आदि सभी मुश्किल हालातों से गुजर रहे हैं। 

राहुल गांधी का मोदी सरकार पर बड़ा हमला, कहा- ये जनता को फिर से गुलाम बना रहे हैं और....

महामारी के बाद भी उबरा चीन 
इस साल की पहली तिमाही में चीन की जीडीपी में भी 6.8 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। ये पहली बार था जब साल 1992 के बाद चीन की जीडीपी में गिरावट आई। लेकिन चीन ने पहली तिमाही के बाद ही खुद को संभाल लिया और दूसरी तिमाही में चीन ने जीडीपी में 3.2 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की। 

जून के महीने में भी चीन के मैन्यफैक्चरिंग सेक्टर में उछाल आया जिससे आयात और निर्यात भी बढ़ा है। अर्थशास्त्रियों की माने तो चीन ने लॉकडाउन किया लेकिन उसे प्लानिंग के तहत अपनाया और छोड़ा भी। जब दुनिया कोरोना से जूझ रही थी तब चीन ने अपने मौके तलाशे और खुद को बचाया। 

अमेरिका
कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा तबाही अमेरिका में हुई है। अमेरिका दुनिया का सबसे ताकतवर देश है लेकिन कोरोना ने अमेरिका को भी हिला कर रख दिया। अमेरिका की जीडीपी में पिछले साल, इस साल 2020 के मुकाबले की दूसरी तिमाही (अप्रैल-जून) में 9.1 फीसदी रही है जो बड़ी गिरावट है। ये 1947 के बाद सबसे बड़ी गिरावट है। जबकि कोरोना महामारी से पहले अमेरिका की आर्थिक वृद्धि दर जी-7 देशों में सबसे अधिक थी। 

Corona के कारण अप्रैल-जून तिमाही में भारत की जीडीपी में 23.9 फीसदी की भारी गिरावट

यूके
ब्रिटेन की जीडीपी में 21.7 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। ये लगातार दूसरी तिमाही में ब्रिटेन की जीडीपी में बड़ी गिरावट है। कोरोना के कारण यहां भी सेवा, उत्पादन और निर्माण क्षेत्र निढाल पड़े रहे। 

इटली
यहां भी अप्रैल-जून तिमाही में 17.7 फीसदी की गिरावट रही। साल 1995 की पहली तिमाही के बाद ये सबसे बड़ी गिरावट है।  

फ्रांस
अप्रैल-जून महीने की तिमाही में फ्रांस की जीडीपी में रिकॉर्ड 18.9 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई।  

GDP में आई गिरावट के बाद राहुल का पीएम पर तंज, कहा- 'मोदी है तो मुमकिन है'

कनाडा
कनाडा की जीडीपी में अप्रैल-जून महीने की पहली तिमाही में 13 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।  

जर्मनी
जर्मनी की जीडीपी में 11.3 फीसदी की गिरावट रही।  

जापान
जापान की अर्थव्यवस्था में साल 2020 की अप्रैल-जून तिमाही में भी रिकॉर्ड 9.9 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.