Wednesday, Dec 01, 2021
-->
covid19 revealed in new research severe infection of corona can give mental problems prshnt

Covid-19: नए शोध में हुआ खुलासा, कोरोना का गंभीर संक्रमण दे सकता है मानसिक समस्याएं

  • Updated on 9/22/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दुनिया में कोरोना वायरस संक्रमण फैलने के साथ ही इस पर कई सोध किए गए और अब भी इस महामारी को लेकर अध्ययन जारी है। कोरोना वायरस के चलते कई मरीजों में स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याएं भी खड़ी हो रही हैं। हाल ही में एक नए अध्ययन से सामने आया है कि कोरोना से गंभीर रूप से संक्रमित होने वाले लोगों को मानसिक समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता है। बीएमजे ओपेन पत्रिका में अध्ययन के मुताबिक, कोरोना से गंभीर रूप से संक्रमित होने से और अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों में उपचार के दौरान या इसके बाद डिप्रेशन और डिलीरियम समेत कई मानसिक समस्याओं का खतरा बढ़ सकता है। डिलीरियम में मानसिक स्थिति बिगड़ जाती है। इसकी वजह से उलझन भरी सोच, भ्रम और सोचने व समझने में परेशानी का सामना करना पड़ता है।

इस अध्ययन में कोरोना के 150 मरीजों पर गौर किया गया था। जिसमें 73 फीसद डिलीरियम से पीड़ित पाए गए थे। अमेरिका की मिशिगन यूनिवर्सिटी के प्रमुख शोधकर्ता फिलिप व्लिसाइड्स कहते हैं, ऐसे पीड़ितों में कोरोना संबंधी बीमारियों के गंभीर होने का खतरा भी ज्यादा पाया गया। कोरोना का ऐसी कई जटिलताओं से जुड़ाव पाया गया, जिससे मरीजों को लंबे समय तक अस्पताल में रहना पड़ सकता है।

हेरोइन मामले पर कांग्रेस की मांग- SC के जज के अधीन आयोग गठित कर जांच हो

कोविड-19 के 26,964 नए मामले
बता दें कि भारत में कोविड-19 के 26,964 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,35,31,498 हो गई। वहीं, उपचाराधीन मरीजों की संख्या कम होकर 3,01,989 रह गई है, जो 186 दिन में सबसे कम है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बुधवार सुबह आठ बजे जारी किए गए अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, संक्रमण से 383 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 4,45,768 हो गई। मंत्रालय ने बताया कि देश में उपचाराधीन मामले कुल मामलों का 0.90 प्रतिशत है, जो मार्च 2020 से सबसे कम संख्या है, जबकि लोगों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर 97.77 प्रतिशत दर्ज की गई, जो मार्च 2020 के बाद से सर्वाधिक है।

पिछले 24 घंटे में उपचाराधीन मरीजों की संख्या में कुल 7,586 कमी दर्ज की गई। देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितंबर को 40 लाख से अधिक हो गई थी। वहीं, संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर को 50 लाख, 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवंबर को 90 लाख के पार चले गए थे। देश में 19 दिसंबर को ये मामले एक करोड़ के पार, इस साल चार मई को दो करोड़ के पार और 23 जून को तीन करोड़ के पार चले गए थे। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें..

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.