Monday, Jan 24, 2022
-->
covishield-modi-bjp-govt-dismisses-reports-disagreements-experts-on-increasing-gap-rkdsnt

कोविशील्ड: अंतराल बढ़ाने पर विशेषज्ञों की असहमतियों की खबरों को मोदी सरकार ने किया खारिज

  • Updated on 6/16/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को उन खबरों को खारिज कर दिया जिनमें दावा किया गया है कि कोविशील्ड की दो खुराकों के बीच अंतराल बढ़ाने को लेकर तकनीकी विशेषज्ञों में असहमति थी। मंत्रालय ने कहा कि यह फैसला एडिनोवेक्टर टीकों के व्यवहार के बारे में वैज्ञानिक कारणों पर आधारित था। 

महामारी से हुए नुकसान के बाद अब अर्थव्यवस्था को दुरुस्त करने की जरूरत: PM मोदी

केंद्र सरकार ने कोविशील्ड की दो खुराकों के बीच के अंतर को छह से आठ सप्ताह से बढ़ाकर 12-16 सप्ताह करने के फैसले को 13 मई को मंजूरी दी थी। टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी परामर्श समूह (एनटीएजीआई) की सिफारिश पर यह मंजूरी दी गयी। एनटीएजीआई के कोविड-19 संबंधी कार्यसमूह की 22वीं बैठक 10 मई को हुई थी। उसमें राष्ट्रीय टीकाकरण नीति के तहत उपयोग में लाये जा रहे कोविशील्ड टीके की खुराकों में अंतराल को बढ़ाने का प्रस्ताव आया था।

राष्ट्र की नींव बेहद मजबूत, कॉलेज छात्रों के प्रदर्शन से हिलने वाली नहीं: अदालत


स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि विशेष रूप से ब्रिटेन के वास्तविक जीवन के साक्ष्यों के आधार पर कोविड-19 कार्यसमूह ने कोविशील्ड की दो खुराक के बीच अंतराल को बढ़ाकर 12 से 16 सप्ताह करने पर सहमति जताई। बयान के अनुसार 13 मई को एनटीएजीआई की स्थायी तकनीकी उप-समिति (एसटीएससी) की बैठक में सिफारिश पर विचार किया गया। 

चिराग पासवान LJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटाए गए, चाचा पारस हुए पार्टी में हावी

मंत्रालय ने कहा कि कोविड-19 कार्यसमूह और एसटीएससी दोनों की ही बैठकों में तीनों में से किसी सदस्य ने असहमति व्यक्त नहीं की थी जिनके नाम खबर में हैं। इनमें डॉ मैथ्यू वर्गीज, डॉ एम डी गुप्ते और डॉ जे पी मुलियिल हैं। मंत्रालय ने कहा कि डॉ वर्गीज ने अपनी कथित असहमति के मुद्दे पर संवाददाता से बात करने से इनकार कर दिया था। 

राम मंदिर ट्रस्ट के ‘घोटाले’ पर राहुल बोले- श्रीराम स्वयं न्याय हैं, उनके नाम पर धोखा अधर्म है!

comments

.
.
.
.
.