Wednesday, Dec 08, 2021
-->
covshield is more effective in infected people study shows prshnt

संक्रमित हो चुके लोगों में कोविशील्ड ज्यादा प्रभावी, एंटीबॉडी का बढ़ रहा स्तरः स्टडी

  • Updated on 3/4/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कोविड-19 संक्रमण (Coronavirus) से ठीक हो चुके व्यक्तियों में कोविशील्ड (Covishield) टीके का तेजी से असर होता है और उनमें एंटीबॉडी का स्तर अधिक पाया जा रहा है। यह बात एक अध्ययन से सामने आयी है। इससे इसकी उम्मीद बनी है कि हो सकता है कि ऐसे व्यक्तियों को दूसरी खुराक देने की जरूरत नहीं पड़े और इस तरह से भारत में कोरोना वायरस टीकाकरण का विस्तार करने में मदद मिलेगी।

कोविशील्ड की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया पर अध्ययन नयी दिल्ली के सीएसआईआर-इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (आईजीआईबी), मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल एंड इंस्टीट्यूट ऑफ एंडोक्राइनोलॉजी, डायबिटीज एंड मेटाबॉलिज्म के साथ ही एकेडमी आफ साइंटिफिक एंड इनोवेटिव रिसर्च (एसीएसआईआर) गाजियाबाद के अनुसंधानकर्ताओं द्वारा किया गया। अध्ययन के लेखकों में शामिल सीएसआईआर- आईजीआईबी के निदेशक अनुराग अग्रवाल ने कहा, ‘कोविशील्ड से एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न हो रही है।

असम में BJP और सहयोगी दलों के बीच सीट शेयरिंग पर बनी सहमति, आज होगी घोषणा

भारत बायोटेक के नेकाल वैक्सीन का ट्रायल अगले हफ्ते से
कोवैक्सीन के बाद भारत बायोटेक की एक और कोविड-19 वैक्सीन तैयारी के नए चरण में प्रवेश कर गई है। यह नेजल वैक्सीन है और इसका ट्रायल अगले सप्ताह से शुरू हो सकता है। भारत बायोटेक ने इस वैक्सीन को वाशिंगटन यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर तैयार किया है। इस कोविड वैक्सीन को नाक के जरिए सीधे श्वसन मार्ग में दिया जाएगा। 

भारत बायोटेक ने नेजल वैक्सीन के ट्रायल के लिए ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया को प्रस्ताव भेजा था। एथिक्स कमेटी ने अभी देश में चार केंद्रों पर इस वैक्सीन के ट्रायल को मंजूरी दी है। ये चार सेंटर हैं पटना एम्स, चेन्नई, नागपुर और हैदराबाद। 

लड़कियों को जबरदस्ती नचाये जाने का मामला: महाराष्ट्र सरकार ने जांच के आदेश दिये

कोवैक्सीन की प्रभावी क्षमता 81 प्रतिशत
कोविड-19 की स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सीन की प्रभावी क्षमता अंतिम चरण के ट्रायल में 81 प्रतिशत पाई गई है। भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने 3 जनवरी को कोवैक्सीन के अपात इस्तेमाल को मंजूरी दी थी।  तब तीसरे चरण का ट्रायल पूरा हुए बिना और प्रभावी क्षमता स्थापित न होने की वजह से इसकी काफी आलोचना हुई थी। अब भारत बायोटेक की ओर से उपलब्ध कराए गए डाटा के मुताबिक कंपनी ने 27000 लोगों पर तीसरे चरण का ट्रायल किया है। यह देश में अब तक का सबसे बड़ा ट्रायल है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार शाम को ट्विटर पर जानकारी दी की आईसीएमआर दिल्ली तथा भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन का जो तीसरे चरण का ट्रायल किया है उसके मुताबिक कोविड-19 के खिलाफ इस वैक्सीन की प्रभावी क्षमता 81 प्रतिशत पाई गई है। 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.