Friday, Jul 30, 2021
-->
cow urine gomutra health benefits corona virus india

जानिए क्या है कोरोना वायरस के गोमूत्र से बचने का असली सच

  • Updated on 3/19/2020

नई दिल्ली/प्रियंका। कोरोना वायरस (Corona Virus) से बचने के लिए देशभर में कई तरीके अपनाए जा रहे हैं। लोग हाथों की साफ-सफाई से लेकर गोमूत्र (Cow Urine) के सेवन तक हर युक्ति अपना चुके हैं। पिछले दिनों दिल्ली में भी एक गोमूत्र पार्टी का आयोजन किया गया था जिसमें कोरोना वायरस दैत्य से लड़ने के लिए करीब 200 लोगों ने गोमूत्र का सेवन किया।

इस बीच पश्चिम बंगाल (West Bengal) से गोमूत्र पीने से एक व्यक्ति के बीमार होने की खबर आई है। बताया जा रहा है कि पुलिस ने गोमूत्र सेवन कार्यक्रम आयोजित करने वाले एक बीजेपी कार्यकर्ता (BJP Worker) को गिरफ्तार कर लिया है। 

कोरोना फतेह ! क्लीनिकल सक्सेस के बाद चीन ने किया सफल इलाज का दावा

गोमूत्र पीने से हुआ शख्स बीमार 
पश्चिम बंगाल में बीजेपी कार्यकर्ता ने कोरोनो वायरस के संक्रामण से बचने के लिए गोमूत्र सेवन कार्यक्रम आयोजित किया था और उसने ये दावा किया था कि गोमूत्र पीने से कोरोनो वायरस से संक्रमित (Infected) लोग ठीक हो सकते हैं। लेकिन हुआ इसका उल्टा और गोमूत्र पीने से स्वयंसेवक स्थानीय नागरिक बीमार हो गया। बाद में इसी स्वयंसेवक की शिकायत पर पुलिस ने बीजेपी कार्यकर्ता को गिरफ्तार कर लिया। बताया जा रहा है कि गिरफ्त में लिया गया बीजेपी कार्यकर्ता लोगों से गोमूत्र के “चमत्कारिक” (Magical) गुणों का जिक्र किया था।

'हेल्थ ड्रिंक' के तौर पर बिकेगा गोमूत्र, इन दवाईयों में भी होगा इस्तमाल

क्या है प्रमाण  
गोमूत्र के गुणकारी होने के तो प्रमाण मिलते हैं लेकिन गोमूत्र चमत्कारी है और इससे कोरोना वायरस ठीक हो सकता है, ऐसा कोई प्रमाण अभी तक सामने नहीं आया है। इतना ही नहीं मेडिकल साइंस में भी गौमूत्र पर की गई रिसर्च में इसके हेल्थ बेनिफिट्स को प्रूव किया है। इस बारे में अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ, भारत सरकार के आयुष डिपार्टमेंट और इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फार्मेसी एंड फार्मास्युटिकल साइंसेस में पब्लिश शोध में गौमूत्र को कई गंभीर और सामान्य बीमारियों के लिए फायदेमंद बताया गया है। 

कोरोना वायरस के बीच गोमूत्र सेवन कार्यक्रम आयोजित, BJP कार्यकर्ता गिरफ्तार

गोमूत्र किस तरह से लाभकारी 
आयुर्वेद की माने तो गौमूत्र अपने आप में एक दवा (Medicine) की तरह है, लेकिन इसका इस्तेमाल डायरेक्ट नहीं किया जा सकता। आयुर्वेद कहता है कि अगर गोमूत्र में कुछ और जड़ी बूटियां मिलाकर दी जाएं तो इसका असर कई गुना बढ़ जाता है। इतना ही नहीं, गोमूत्र व्यक्ति के इम्यून सिस्टम (Immunity System) को बढ़ाता है लेकिन तब जब उसे दवाओं में शामिल कर इस्तेमाल किया जा सकता है। इस दौरान ये ध्यान रखना होगा कि गोमूत्र किस स्वस्थ देशी गाय का ही हो और जो प्रेग्नेंट, बूढ़ी या बीमार न हो। इसके अलावा गौमूत्र का इस्तेमाल करने से पहले उसे कपड़े की कई परतों से अच्छी तरह छान लेना बेहद जरूरी है। सबसे जरूरी यह है कि किसी भी नुस्खे का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर ली जाए।

आर्थिक रूप से पस्त हैं देश के 17 राज्य, फिर कैसे निपटेगा कोरोना से देश?

गोमूत्र के चमत्कारी होने का सच
गोमूत्र को लेकर ऐसी अब तक कोई रिसर्च सामने नहीं आई है जो इस बात को प्रमाणित कर सके कि कोरोना को रोकने के लिए गोमूत्र का इस्तेमाल किया जा सकता है। इतना नहीं इस बारे में कई बड़े मेडिकल संस्थान भी बताते आ रहे हैं कि अब तक कोई मेडिकल सबूत नहीं मिला है, जिससे पता चलता हो कि गोमूत्र में एंटी-वायरल गुण होते हैं। जानकर यह भी कहते हैं कि गाय के गोबर का इस्तेमाल उल्टा भी पड़ सकता है, क्योंकि हो सकता है कि इसमें कोरोना वायरस हो जो इंसानों में भी आ सकता है।

comments

.
.
.
.
.