Wednesday, Dec 01, 2021
-->
cpi-m says violence cannot distract attention from farmers demands rkdsnt

माकपा ने कहा- हिंसा से किसानों की मांगों से ध्यान नहीं भटकाया जा सकता

  • Updated on 1/27/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। माकपा ने बुधवार को कहा कि ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा उकसाने वालों की करतूत है, लेकिन इससे किसानों की मांगों से ध्यान नहीं भटकाया जा सकता। पार्टी ने संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से आंदोलन जारी रखने के फैसले का भी समर्थन किया। 

मोदी 56 इंच के सीने की बात करते हैं, लेकिन गरीबों के आंसू ....: कांग्रेस

माकपा के पोलित ब्यूरो ने ट्रैक्टर परेड की सराहना करते हुए कहा, ‘‘एक लाख से अधिक ट्रैक्टर इस परेड में शामिल हुए। देश के दूसरे राज्यों में इसी तरह की परेड का आयोजन किया गया।’’

संयुक्त किसान मोर्चा ने किया साफ- सतर्कता के साथ जारी रहेगा किसान आंदोलन

वामपंथी दल ने कहा, ‘‘अप्रिय घटनाएं हुईं जिनसे किसानों की मांगों से ध्यान नहीं भटकाया जा सकता। इस तरह की घटनाएं कुछ उकसाने वालों की करतूत हैं और इनमें से कुछ का संबंध सत्तारूढ़ पार्टी से है। इन घटनाओं को पूरे किसान आंदोलन ने खारिज किया है।’’ 

किसान ट्रैक्टर परेड में हिंसा : सोशल मीडिया में दीप सिद्धू  को लेकर उठे सवाल

पार्टी ने केंद्र से यह आग्रह भी किया कि वह तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने की घोषणा करे। गौरतलब है कि किसान समूहों की, ट्रैक्टर परेड के दौरान कई स्थानों पर पुलिस के साथ झड़प हुई। इसके बाद पुलिस ने किसान समूहों पर आंसू गैस के गोले छोड़े तथा लाठीचार्ज किया। 

 आचार्य प्रमोद का तंज-  लाल किले का इतना “अपमान” तो किसी “कमजोर” PM के दौर में भी नहीं हुआ

दिल्ली की सीमा पर कई स्थानों पर प्रदर्शनकारियों ने अवरोधक तोड़ दिए। ट्रैक्टर परेड के लिए निर्धारित मार्ग से हटकर प्रदर्शनकारी किसानों का एक समूह मंगलवार को लालकिले में घुस गया और राष्ट्रीय राजधानी स्थित इस ऐतिहासिक स्मारक के कुछ गुंबदों पर अपने झंडे लगा दिए थे।

हिंसा से आहत संयुक्त किसान मोर्चा ने तत्काल प्रभाव से किसान ट्रैक्टर परेड वापस ली

 

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.