Tuesday, Dec 01, 2020

Live Updates: Unlock 7- Day 1

Last Updated: Tue Dec 01 2020 03:19 PM

corona virus

Total Cases

9,463,285

Recovered

8,888,629

Deaths

137,659

  • INDIA9,463,285
  • MAHARASTRA1,823,896
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA883,899
  • TAMIL NADU780,505
  • KERALA599,601
  • NEW DELHI566,648
  • UTTAR PRADESH543,888
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA318,725
  • TELANGANA268,418
  • RAJASTHAN262,805
  • BIHAR235,616
  • CHHATTISGARH234,725
  • HARYANA232,522
  • ASSAM212,483
  • GUJARAT206,714
  • MADHYA PRADESH203,231
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB151,538
  • JAMMU & KASHMIR109,383
  • JHARKHAND104,940
  • UTTARAKHAND74,340
  • GOA45,389
  • HIMACHAL PRADESH38,977
  • PUDUCHERRY36,000
  • TRIPURA32,412
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,269
  • NAGALAND10,674
  • LADAKH7,866
  • SIKKIM4,967
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,631
  • MIZORAM3,806
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,325
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
cpi say delhi police trying to implicate leaders social activists critical of modi bjp govt rkdsnt

मोदी सरकार के आलोचकों को दिल्ली पुलिस फंसाने की कोशिश कर रही है : भाकपा

  • Updated on 9/24/2020


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (CPIM) ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस (Delhi Police) फरवरी में हुए दंगों के मामले में उन नेताओं और कार्यकर्ताओं को फंसाने की कोशिश कर रही है, जो भाजपा नीत सरकार की ‘‘जन-विरोधी नीतियों’ की आलोचना कर रहे हैं। मामले की जांच की निष्पक्षता पर सवाल खड़े करते हुए भाकपा ने कहा कि दिल्ली पुलिस की जांच एक ‘‘साजिश’’ है, जिसका लक्ष्य हिंसा के असली गुनहगारों को पकडऩे के बजाय उन लोगों को अपराधी साबित करना है जो मानवाधिकार हनन और अन्याय के खिलाफ बोल रहे हैं। 

दिल्ली दंगे: कोर्ट ने UAPA मामले में उमर खालिद को न्यायिक हिरासत में भेजा 

उल्लेखनीय है कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली में फरवरी में हुए दंगों के मामलों में दिल्ली पुलिस ने हाल ही में अपने एक पूरक आरोपपत्र में माकपा महासचिव सीताराम येचुरी, स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव, अर्थशास्त्री जयती घोष और दिल्ली विश्वविद्यालय के प्राध्यापक अपूर्वानंद का नाम लिया गया है। उनका नाम कथित रूप से संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) प्रदर्शनकारियों को उकसाने और लामबंद करने के कारण इसमें आया है। 

 शरद पवार को CBDT के नोटिस पर चुनाव आयोग ने दी सफाई

भाकपा के बयान में कहा गया है, ‘‘पार्टी उत्तर-पूर्वी दिल्ली दंगों की जांच में दिल्ली पुलिस की भूमिका की निंदा करती है, जिसमें भाकपा की राष्ट्रीय कार्यकारी सदस्य और महासचिव, नेशनल फेडरेशन ऑफ इडियन वूमन एनी राजा सहित नेताओं और कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया गया है। ’’ बयान में कहा गया है कि सीएए के खिलाफ शांतिपूर्ण और लेाकतांत्रिक प्रदर्शन कानून के खिलाफ लोगों की असहमति का वैध और संवैधानिक अधिकार है। ये प्रदर्शन इतने प्रभावी थे कि इसने भाजपा को हिला कर रख दिया, जो प्रदर्शनों को दंगों की साजिश के रूप में चित्रित करने की कोशिश कर रही है। 

टाइम पत्रिका में छाए आयुष्मान खुराना ने अपने जज्बात किए जाहिर

भाकपा ने कहा , ‘‘यह स्तब्ध कर देने वाला है कि दिल्ली पुलिस मौजूदा सरकार की जन विरोधी नीतियों और कार्यक्रमों की आलोचना करने वाले नेताओं और कार्यकर्ताओं को फंसाने की कोशिश कर रही है।’’ भाकपा महासचिव डी राजा ने कहा कि भाकपा नेता एनी राजा के अलावा अन्य राजनीतिक दलों के नेताओं को भी मामले में गिरफ्तार लोगों के बयान के आधार पर आरोपपत्र में नामजद किया गया है। इनमें सलमान खुर्शीद, वृंदा करात, कविता कृष्णन और वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण, कार्यकर्ता अंजलि भारद्वाज, योगेंद्र यादव, हर्ष मंदर, राहुल रॉय, अपूर्वानंद और सबा दीवान के नाम भी शामिल हैं। 

दीपिका, श्रद्धा और सारा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, ड्रग्स मामले में NCB ने भेजा समन

बयान में कहा गया है, ‘‘इन सभी लोगों ने मुस्लिम महिलाओं के नेतृत्व में हुए शांतिपूर्ण प्रदर्शन के प्रति एकजुटता दिखाई थी और अब इसे एक बड़ी साजिश बताया जा रहा है।’’ इसमें कहा गया है, ‘‘इसके उलट, आरोपपत्र में भाजपा से जुड़े नेताओं की भूमिकाओं का उल्लेख नहीं है, जिन्होंने भड़काऊ भाषण दिये थे। ’’ 

छात्रों के कॉलेज एडमिशन को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने CBSE और UGC को दिया निर्देश

बयान में कहा गया है कि भाकपा ने अन्य विपक्षी दलों के साथ इस पर ङ्क्षचता जताते हुए राष्ट्रपति को एक ज्ञापन भी सौंपा है और एक मौजूदा या सेवानिवृत्त न्यायाधीश के नेतृत्व में जांच कराने का अनुरोध किया। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में 23 और 26 फरवरी के बीच हुए दंगों में 53 लोग मारे गये थे और 581 अन्य घायल हुए थे, जिनमें से 97 लोगों को गोलियां लगी थी। 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

सुशांत मौत मामले में CBI ने दर्ज की FIR, रिया के नाम का भी जिक्र

comments

.
.
.
.
.