Wednesday, Oct 20, 2021
-->
cpim said sourav ganguly was under pressure to enter politics pragnt

माकपा का विवादित बयान, कहा- सौरव गांगुली पर था राजनीति में आने का दबाव

  • Updated on 1/4/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के अध्यक्ष और भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) की अचानक तबीयत बिगड़ने के बाद से उनका इलाज कोलकाता (Kolkata) के वुडलैंड अस्पताल में चल रहा है। इस बीच माकपा (CPIM) के वरिष्ठ नेता अशोक भट्टाचार्य (Ashok Bhattacharya) ने कहा है कि सौरव गांगुली पर राजनीति में आने का दबाव था। भट्टाचार्य के इस बयान से विवाद खड़ा हो गया है।

BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली की हालत स्थिर, मेडिकल बुलेटिन में 'दादा' की तबीयत को लेकर कही ये बात

सौरव गांगुली पर था दबाव- CPI(M)
गांगुली के लंबे समय से पारिवारिक मित्र रहे भट्टाचार्य ने कहा, 'कुछ लोग गांगुली का राजनीतिक रूप से इस्तेमाल करना चाहते हैं। संभवत: इससे वह दबाव में थे। वह राजनीतिक मिजाज के नहीं हैं। उन्हें एक बेहतरीन खिलाड़ी के तौर पर जाना जाए।' भट्टाचार्य अस्पताल में गांगुली का हालचाल जानने पहुंचे थे। उन्होंने कहा, 'हमें उन पर दबाव (राजनीति में आने के लिए) नहीं डालना चाहिए। मैंने पिछले सप्ताह उन्हें कहा था कि उन्हें राजनीति में नहीं आना चाहिए और उन्होंने मेरे विचारों को खारिज नहीं किया था।'

BCCI अध्यक्ष सौरभ गांगुली की बिगड़ी तबीयत, अस्पताल में भर्ती

BJP ने दिया जवाब
राज्य के पूर्व मंत्री के इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा (BJP) के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष (Dilip Ghosh) ने कहा, 'कुछ लोग अपनी तुच्छ मानसिकता के कारण हर चीज में राजनीति देखते हैं। गांगुली के लाखों प्रशंसकों की तरह हमलोग भी उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हैं।' तृणमूल कांग्रेस (TMC) के वरिष्ठ नेता और राज्य में मंत्री शोभनदेव भट्टाचार्य ने कहा, 'सौरव गांगुली को पार्टी (तृणमूल कांग्रेस) में लाने के लिए कभी प्रयास नहीं किया गया। एक उम्दा खिलाड़ी के रूप में हमें उन पर गर्व है।' तृणमूल कांग्रेस के नेता ने भी अस्पताल जाकर गांगुली से मुलाकात की थी।

TMC पर निशाना साधते हुए ओवैसी ने कहा- मैं सियासत की लैला, बहुत हैं मेरे मजनू

CM ममता और राज्यपाल ने जाना हालचाल
गांगुली के साथ खेल चुके पूर्व खिलाड़ी और राज्य में मंत्री लक्ष्मी रतन शुक्ला, दिवंगत बीसीसीआई अध्यक्ष जगनमोहन डालमिया की बेटी तृणमूल विधायक वैशाली डालमिया, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य समेत कई अन्य लोग गांगुली से मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने भी शनिवार को अस्पताल जाकर गांगुली का हालचाल जाना। गांगुली ने पिछले सप्ताह राजभवन में राज्यपाल से शिष्टाचार भेंट की थी। 

राजस्थान: CM के सामने लगे 'सचिन पायलट जिंदाबाद' के नारे, भड़के गहलोत

बीजेपी में शामिल होने की थी अटकलें
बता दें कि शनिवार को गांगुली को दिल का दौरा पड़ने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। ऐसी अटकलें थीं कि पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी इस साल अप्रैल-मई में होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल होंगे। हालांकि गांगुली ने राजनीति में आने को लेकर अपनी मंशा कभी स्पष्ट नहीं की। शनिवार को दिल का दौरा पड़ने के बाद गांगुली की एंजियोप्लास्टी की गई। कोलकाता के एक निजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है।

भारत में बन रही हैं ये Corona Vaccine, जानें कौन है किस लेवल पर, देखें पूरी लिस्ट यहां....

मेडिकल बुलेटिन में 'दादा' की तबीयत को लेकर कही ये बात
बीसीसीआई अध्यक्ष की हालत स्थिर है और सोमवार सुबह मेडिकल बोर्ड बैठक करेगा और उनके आगे के उपचार के बारे में फैसला लेगा। अस्पताल की ओर से जारी बुलेटिन में कहा गया कि 48 वर्षीय गांगुली 'रविवार रात ठीक से सोए और इस वक्त उनके सेहत संबंधी सभी मानक सामान्य हैं।' इसमें बताया गया कि उनका बीपी 120/80 है और उनके शरीर में ऑक्सीजन का स्तर 97 फीसदी है। बुलेटिन में कहा गया, 'सुबह हम उनकी इकोकार्डियोग्राफी करेंगे जिसमें पता चलेगा कि उनका दिल कैसा काम कर रहा है। उनकी सेहत पर डाक्टर लगातार नजर रख रहे हैं।' दिल का दौरा पड़ने के बाद गांगुली के ह्रदय की एक प्रमुख धमनी में स्टेंट डाला गया था।

ये भी पढ़ें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.