Sunday, Mar 29, 2020
crime branch arrested sharjil imam again in jamia violence case

CAA: जामिया हिंसा मामले में शरजील इमाम को क्राइम ब्रांच ने दोबारा किया गिरफ्तार

  • Updated on 2/17/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। सीएए (CAA) के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने वाले आरोपी शरजील इमाम (sharjeel imam) को दिल्ली क्राइम ब्रांच (Delhi crime branch) ने गिरफ्तार कर लिया है। इमाम की ये गिरफ्तारी जामिया हिंसा मामले में की गई है। फिलहाल पुलिस आरोपी से पुछताछ कर मामले से जुड़ी अन्य जानकारी जुटा रही है। 

अनुराग कश्यप ने शेयर किया #Jamia यूनिवर्सिटी में #DelhiPolice कार्रवाई का सन्न करने वाला नया #Video

दिल्ली पुलिस की एक दिन की हिरासत में भेजा गया इमाम 
दिल्ली की एक अदालत ने देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार इमाम को सीएए के खिलाफ 15 दिसंबर को न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में हिंसक प्रदर्शनों से संबंधित एक अलग मामले में सोमवार को दिल्ली पुलिस की एक दिन की हिरासत में भेज दिया। पुलिस ने बताया कि मामले में एक अन्य आरोपी ने खुलासा किया है कि उसे इमाम के भाषणों ने उकसाया था, जिसके बाद मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट गुरमोहन कौर ने इमाम को हिरासत में भेज दिया।

CAA के विरोध में उतरे इमरान, कहा- PAK को करना पड़ सकता है शरणार्थी संकट का सामना

इमाम को बिहार के जहानाबाद से किया गया था गिरफ्तार
यहां जामिया मिल्लिया इस्लामिया और अलीगढ़ में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में इमाम को 28 जनवरी को बिहार के जहानाबाद से गिरफ्तार किया गया था। इमाम के खिलाफ 26 जनवरी को देशद्रोह और अन्य आरोपों में मामला दर्ज किया गया था। पिछले वर्ष 15 दिसंबर को संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ एक प्रदर्शन के दौरान जामिया मिल्लिया इस्लामिया के पास न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में पुलिस के साथ हुए संघर्ष में प्रदर्शनकारियों ने चार सार्वजनिक बसों और दो पुलिस वाहनों को जला दिया था।

UP: CAA हिंसा में प्रदर्शनकारियों के खिलाफ जारी हुए नोटिस पर HC ने लगाई रोक

पुलिस ने उग्र भीड़ को तितर-बितर करने के लिए किया था लाठीचार्ज
इस घटना में छात्रों, पुलिसर्किमयों और दमकलर्किमयों समेत लगभग 60 लोग घायल हो गए थे। पुलिस ने उग्र भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया था और आंसू गैस के गोले छोड़े थे। पुलिसकर्मी यह कहते हुए जामिया परिसर में प्रवेश कर गए थे कि दंगाई वहां छिपे हैं। हालांकि जामिया छात्रों ने इस बात से इनकार किया कि वे हिंसा में शामिल थे। छात्रों ने पुलिस बर्बरता का आरोप लगाया था। 

comments

.
.
.
.
.