Saturday, Feb 29, 2020
criminal complaint against shehla rashid on supreme court jnu student

जम्मू- कश्मीरः सेना को लेकर फर्जी दावे कर फंसी शहला राशिद, SC में शिकायत दर्ज

  • Updated on 8/19/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अनुच्छेद 370 (Article 370) के प्रावधानों को समाप्त करने के बाद कश्मीर (Kashmir) के मौजूदा हालातों को लेकर किए गए विवादित ट्वीट पर जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) की पूर्व छात्र नेता और पूर्व छात्र संघ की उपाध्यक्ष शहला रशीद (Shehla Rashid) की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। ट्विटर के जरिए शहला के आरोपों को आर्मी ने सिरे से खारिज करते हुए बेबुनियाद और तथ्यहीन बताया था। वहीं शेहला राशिद के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक आपराधिक शिकायत दर्ज की गई है। वकील ने अपनी शिकायत में फर्जी खबर फैलाने के आरोप में राशिद की गिरफ्तारी की मांग की है।

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के वकील अलख आलोक श्रीवास्तव (Alakh Alok Srivastava) ने जम्मू-कश्मीर (Jammu And Kashmir) पीपुल्स मूवमेंट की नेता शेहला राशिद के खिलाफ कश्मीर के हालात पर अपने आरोपों को लेकर एक आपराधिक शिकायत दर्ज की है। श्रीवास्तव ने अपनी शिकायत में भारतीय सेना और भारत सरकार के खिलाफ फर्जी खबर फैलाने का आरोप लगाते हुए शहला की गिरफ्तारी की मांग की है।

कश्मीर मुद्दे पर चीन की चालबाजी से व्यापारी नाराज, करेंगे चीनी वस्तुओं का बहिष्कार

सुप्रीम कोर्ट में दर्ज शिकायत के अनुसार, श्रीवास्तव ने कहा कि राशिद द्वारा लगाए गए आरोप बिल्कुल झूठे, निराधार और मनगढ़ंत हैं। शिकायत में यह भी कहा गया कि रशीद का इरादा भारत सरकार के प्रति उदासीनता फैलाने का था, जो कि भारतीय दंड संहिता (IPC) की धारा 124-ए के तहत दंड का अपराध है। 

शेहला ने रविवार को 10 ट्वीट करते हुए कहा था कि कश्मीर घाटी में स्थिति बेहद खराब हैं और सुरक्षाबल लोगों को बार-बार परेशान कर रहे हैं। कश्मीर की मूल रूप से निवासी जेएनयू छात्र शेहला राशिद ने रविवार को कहा था, 'आर्मी और पुलिस के लोग रात के समय आम नागरिकों के घरों में घुस रहे हैं और उन्हें प्रताडि़त कर रहे हैं। शोपियां में चार लोगों को जबरन आर्मी कैंप में बुलाकर उनसे पुछताछ की गई। उनके पास एक माइक रखा गया था ताकि पूरा इलाका उनकी चीख सुन सकें। इससे पूरे इलाके में खौफ का माहौल पैदा हो।' राशिद ने सुरक्षाबलों पर उन्हें टॉर्चर करने का आरोप लगाया।

NBTजम्मू- कश्मीर में आज से खुले प्राइमरी स्कूल, लैंडलाइन की सुविधा भी शुरू

भारतीय सेना ने जम्मू और कश्मीर में स्थिति के बारे में शेहला रशीद के आरोपों को भी खारिज कर दिया और उन्हें बेबुनियाद करार दिया। सेना ने ट्वीट कर कहा, 'शेहला रशीद द्वारा लगाए गए आरोप बेबुनियाद और तथ्यहीन हैं। इसमें कोई सच्चाई नहीं है। ऐसी असत्यापित और फर्जी खबरें असामाजिक तत्वों और संगठनों द्वारा लोगों को भड़काने के लिए फैलाई जा रही हैं।' सैन्य बलों और प्रशासन का कहना है कि कश्मीर में हालात नियंत्रण में है। श्रीनगर में आज करीब 190 प्राइमरी स्कूल भी खुल गए हैं और सरकारी दफ्तरों में भी कामकाज हो रहा है।

शहला ने केंद्र की मोदी सरकार पर भी जमकर हमला किया। उन्होंने सत्ताधारी बीजेपी के खिलाफ कई ट्वीट करते हुए लिखा कि बीजेपी के अनुसार उमर अब्दुल्ला, शहला राशिद, द वायर, कपिल काक, स्वरा भास्कर, रविश कुमार, एनडीटीवी, शाह फैसल, गुलाम नबी आजाद, रामचंद्र गुहा, कविता कृष्णन जैसे लोग पाकिस्तान प्रायोजित हैं। 

comments

.
.
.
.
.