Saturday, Jan 22, 2022
-->
CRPF personnel also donated their salary to PM CARES Fund check given to amit Shah rkdsnt

CRPF कर्मियों ने भी PM CARES Fund में दान की अपनी सैलरी, शाह को सौंपा चेक

  • Updated on 5/5/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CRPF) ने कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ जंग लड़ने को अपनी एक दिन की सैलरी प्रधानमंत्री केयर फंड (PM CARES Fund ) में दान की है। CRPF के महानिदेशक राजेश रंजन ने गृह मंत्री अमित शाह को 16 करोड़ 23 लाख 82 हजार 357 रुपये का चेक सौंपा। हैरानी की बात यह है कि सुरक्षाबलों के सैकड़ों कर्मचारी कोरोना की चपेट में हैं। 

बेबस मजदूरों को लेकर अखिलेश यादव बोले- गरीब विरोधी BJP का अंत शुरु

सीआईएसएफ के प्रवक्ता के मुताबिक कोरोना महामारी से लड़ने के लिए सुरक्षा बल के 1.62 लाख से ज्यादा कर्मचारियों ने राष्ट्रीय जिम्मेदारी के प्रति प्रतिबद्धता को ध्यान में रखते हुए स्वेच्छा से एक दिन का वेतन प्रधानमंत्री केयर फंड में देने का फैसला किया है। इससे पहले EPFO के कर्मचारियों ने पीएम केयर्स में 2.5 करोड़ रुपये का दान किया था। 

सोनिया, राहुल के बाद मजदूरों को लेकर अब प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार को घेरा

बता दें कि सरकारी विभाग के कर्मचारी दिल खोल कर PM CARES Fund में दान कर रहे हैं। लेकिन,  PM CARES Fund का सरकार कहां और कैसे इस्तेमाल कर रही है, इसको लेकर किसी को भी जानकारी नहीं है। यहां तक की सुनने में आ रहा है कि इसका सरकारी ऑडिट यानि कैग से ऑडिट नहीं कराया जाएगा। इसको लेकर विपक्ष तरह-तरह के सवाल उठाते हुए फंड में पारदर्शिता लाने की बात कर रहे हैं। 

सोनिया गांधी ने अब प्रवासी मजदूरों के लिए जारी किया वीडियो संदेश, निशाने पर मोदी सरकार

कोरोना संकट के बीच केंद्र की मोदी सरकार द्वारा गठित PM CARES Fund में सभी ओर से धन की बरसात हो रही है। सभी बड़ी हस्तियों से लेकर उद्योगघरानों ने  PM CARES Fund करोड़ों रुपये का दान किया है। सरकारी विभागों के कर्मचारियों के संगठनों ने भी  PM CARES Fund में दिल खोलकर दान किया है। 

सोनिया गांधी के बाद जावेद अख्तर को भी रास नहीं आई प्रवासी मजदूरों की बेरुखी

सवाल यह भी उठ रहे हैं कि कई सरकार विभाग ऐसे भी हैं कि जो धन के अभाव में कई अहम काम नहीं कर पा रहे हैं, लेकिन उस विभाग के कर्मचारियों की सैलरी PM CARES Fund में दान कर दी गई है। इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में भी यही हाल है कि वह अपने स्कॉलरों को राशि नहीं दे पाया है, लेकिन उसने करोड़ों का दान किया है। इसी तरह रेलवे ने 150 करोड़ रुपये दान किए, लेकिन मजदूरों से टिकट का किराया वसूल किया गया।

आरोग्य सेतु ऐप को लेकर राहुल गांधी के बाद खुफिया एजेंसी ने भी जताई चिंता

comments

.
.
.
.
.