Thursday, Jan 27, 2022
-->

CRPF ने कश्मीर में पैलेट गन इस्तेमाल पर आरटीआई का जवाब देने से इनकार किया

  • Updated on 1/8/2017

Navodayatimesनई दिल्ली (टीम डिजिटल) : केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल :सीआरपीएफ: ने पैलेट गन इस्तेमाल के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) और जम्मू कश्मीर में प्रदर्शनों को शांत करने के लिए चलाई गई गोलियों की संख्या का खुलासा करने से इनकार कर दिया है।

बल ने कहा कि सवाल करने वाले आरटीआई आवेदनकर्ता ने मानवाधिकार उल्लंघन या भ्रष्टाचार का कोई आरोप नहीं लगाया है। मानवाधिकार कार्यकर्ता वेंकटेश नायक पैलेट गन इस्तेमाल की मानक संचालन प्रक्रिया बताने की मांग की थी जिससे कश्मीर घाटी में हाल में लंबे समय तक चली अशांति के दौरान बड़ी संख्या में लोग चोटिल हो गए थे एवं कई की आंखों की रोशनी चली गई थी।

छत्तीसगढ़: पुलिस वालों ने 16 आदिवासी महिलाओं का किया रेप

नायक ने यह भी पूछा था कि एक जुलाई 2016 से अभी तक कितनी गोलियां इस्तेमाल की गईं। नायक ने यह भी जानना चाहा था कि एक जुलाई 2016 के बाद से अभियान संचालन में घायल हुए सीआरपीएफ कर्मियों की पदवार संख्या क्या है।
केंद्रीय लोक सूचना अधिकारी ने कहा, ‘‘तत्काल मामले में कोई मानवाधिकार उल्लंघन प्रतीत नहीं होता, साथ ही तथ्यों में भ्रष्टाचार का कोई आरोप नहीं है। इसके अलावा आपकी अर्जी में ऐसे किसी आरोप का उल्लेख नहीं है।

अमर सिंह को मिली जेड सुरक्षा, अखिलेश गुट के नरेश अग्रवाल ने बताया बीजेपी का एजेंट

इसलिए यह विभाग आरटीआई कानून, 2005 के तहत कोई सूचना मुहैया कराने के लिए उत्तरदायी नहीं है।’’ अपने सवाल पर बल के जवाब पर प्रतिक्रिया जताते हुए नायक ने कहा, ‘‘जब एसओपी गोपनीय रखा जाती है, पास खड़ा पीड़ित व्यक्ति को यह पता कैसे चलेगा कि सीआरपीएफ कर्मियों द्वारा की गई कार्रवाई सीमा से अधिक थी या नहीं।

वे मुआवजे के लिए मामला कैसे बना सकेंगे और उन सुरक्षाकर्मियों की जवाबदेही तय करने की मांग कैसे करेंगे जिन्होंने उन्हें उनकी बिना किसी गलती के चोट पहुंचायी।’’
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.