Wednesday, Aug 10, 2022
-->
cycle girl jyoti  story in bollywood anjsnt

बड़े पर्दे पर दिखेगी ज्योति की कहानी, किन-किन मुश्किलों में तय किया गुरुग्राम से बिहार तक का सफर

  • Updated on 5/28/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। गुरुग्राम से बिहार तक का सफर साइकिल से तय करने वाली ज्योति की ये साहस से भरी कहानी शायद ही कोई होगा जिसने नहीं सुनी होगी। जब ये कहानी फिल्म निर्माता विनोद कापड़ी के कानों तक पहुंची तो उन्होंने इस कहानी को पर्दे पर उतारने का फैसला कर लिया।

पिता को साइकिल से हरियाणा से बिहार पहुंचाने वाली ज्योति के साहस की कायल हुईं इवांका ट्रंप

इसके लिए उन्होंने ज्योति के पिता से भी बात की। जिसके बाद उन्होंने इसके लिए हामी भर दी। अब आप सभी ज्योति के इस साहस भरे सफर को अपनी आंखों से देखेंगे कि किस तरह से ज्योंति ने गुरुग्राम से बिहार तक का सफर तय किया।आपको बता दें कि फिल्म और वेब सीरीज बनाने वाली भागीरथ फिल्म प्राइवेट लिमिटेड ( BFPL) और ज्योति के पिता के बीच एग्रीमेंट भी साइन कर दिए गया है लेकिन अभी तक राशि का खुलासा नहीं किया गया।

हर जगह हो रही चर्चा
कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण देश भर में लागू लॉकडाउन (Lockdown) के बीच बिहार की दरभंगा की रहने वाली 15 वर्षीय ज्योति ने अपने घायल पिता को साइकिल पर बैठा कर हरियाणा (Haryana) के गुरुग्राम से 7 दिनों में दरभंगा तक 1200 किलोमीटर का सफर ​तय किया था। इस समय ज्योति कुमारी की लोग जमकर तारीफ कर रहे हैं और हर तरफ उनकी मिसाल दी जा रही है। बिहार की इस लड़की की चर्चा अब सात समंदर पार भी होने लगी है। अमेरिकी राष्ट्रपति की बेटी इवांका ट्रंप भी उनकी मुरीद हो गई और ट्वीट कर उनकी तारीफ की। 

प्रवासी मजदूरों के साथ पहुंची महामारी से हिमाचल प्रदेश की बिगड़ी हालत

इवांका ट्रंप ने साझा की ज्योति कुमारी की स्टोरी
इवांका ट्रंप (Ivanka Trump) का कहना है कि यह भारतीय पारिवारिक प्रेम की अनोखी मिसाल है। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा है, '15 वर्षीय ज्योति कुमारी ने जिस तरह से अपने घायल पिता को साइकल से 7 दिनों में 1200 किलोमीटर दूरी तय करके अपने गांव ले गई। यह भारतीयों की सहनशीलता और उनके प्रेम की भावना को दर्शाता है।' इसके साथ ही उन्होंने साइकिल फेडरेशन का भी जिक्र किया है।

भारतीय साइकिलिंग फेडरेशन ने दिया ऑफर
साइकिलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने ज्योति के ट्रायल के लिए उन्हें अगले महीने दिल्ली बुलाया है। सीएफआई के चेयरमैन ओंकार सिंह ने बताया कि अगर ज्योति ट्रायल पास करने में सफल रहती हैं तो उन्हें दिल्ली स्थित आईजीआई स्टेडियम परिसर में नेशनल साइक्लिंग एकेडमी में जगह दी जाएगी।

comments

.
.
.
.
.