Wednesday, Jun 03, 2020

Live Updates: Unlock- Day 3

Last Updated: Wed Jun 03 2020 10:42 AM

corona virus

Total Cases

207,910

Recovered

100,285

Deaths

5,829

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA72,300
  • TAMIL NADU24,586
  • NEW DELHI22,132
  • GUJARAT17,632
  • RAJASTHAN9,373
  • UTTAR PRADESH8,729
  • MADHYA PRADESH8,420
  • WEST BENGAL6,168
  • BIHAR4,096
  • KARNATAKA3,796
  • ANDHRA PRADESH3,791
  • TELANGANA2,891
  • JAMMU & KASHMIR2,718
  • HARYANA2,652
  • PUNJAB2,342
  • ODISHA2,245
  • ASSAM1,562
  • KERALA1,413
  • UTTARAKHAND1,043
  • JHARKHAND722
  • CHHATTISGARH564
  • TRIPURA471
  • HIMACHAL PRADESH345
  • CHANDIGARH301
  • MANIPUR89
  • PUDUCHERRY79
  • GOA79
  • NAGALAND58
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA30
  • ARUNACHAL PRADESH28
  • MIZORAM13
  • DADRA AND NAGAR HAVELI4
  • DAMAN AND DIU2
  • SIKKIM1
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
cyclone-amphan-uprooted-270-years-old-great-banyan-tree-of-kolkata-prsgnt

दुनिया के सबसे विशालतम पेड़ को अम्फान तूफान ने पहुंचाया बड़ा नुकसान, पेड़ की उखड़ी जड़ें

  • Updated on 5/23/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चक्रवती तूफान अम्फान ने वेस्ट बंगाल के कई हिस्सों में भारी तबाही मचाई। इसी तूफान के कारण कोलकाता की शान कहे जाने वाला दुनिया का सबसे विशालतम बरगद का पेड़ भी क्षतिग्रस्त हो गया।

270 साल पुराने
बताया जा रहा है कि अम्फान के कारण इस बड़े मजबूत पेड़ की जड़े उखड़ गई हैं। यह पेड़ 270 साल पुराना है। यह पेड़ हावड़ा के आचार्य जगदीशचंद्र बोस इंडियन बोटेनिक गार्डन में लगा लगा हुआ और ये 4.67 एकड़ में फैला हुआ है। इस पेड़ की विशालता को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते थे।

जड़े खत्म हुई
अम्फान ने इस पेड़ की कई जड़ों को नुकसान पहुंचाया है। जड़े उखड़ने के बाद गार्डन का एक बड़ा हिस्सा खाली दिख रहा है। बताया जा रहा है कि अम्फान से पहले इस पेड़ को 19वीं सदी में आए एक तूफान ने नुकसान पहुंचाया था।

सोशल मीडिया पर वायरल हुआ ये कलाकार चूहा, खाते हुए करता है कमाल की पेंटिंग

ये हुआ नुकसान
बताया जा रहा है कि इस 1.08 किलोमीटर की परिधि में बसे इस बरगद के पेड़ का मुख्य तना 1925 में ही हटा दिया गया था और अब ये पेड़ केवल जड़ों पर टिका हुआ है। अम्फान के बाद इस पेड़ का घनत्व काफी कम हो गया है। ली गई तस्वीरों में इसके अंदर का पूरा भाग खाली दिखाई दे रहा है। इस पेड़ को भारतीय वनस्पति सर्वेक्षण ने अपना प्रतीक चिह्न बना रखा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.