dara singh death anniversary he is good bollywood actor but good politician also

पुण्यतिथि विशेष : दारा सिंह ऐसे पहलवान थे, जिन्होंने एक्टिंग से भी जीता था दिल

  • Updated on 7/11/2019

नई दिल्ली टीम डिजिटल। फिल्मों में पहलवानों के किरदार निभाते आपने कई कलाकारों को देखा है लेकिन एक ऐसा एक्टर है जो असल जीवन में पहलवान था और बॉलीवुड में आने के बाद अपनी एक्टिग से यह साबित कर दिया की पहलावन ठान ले तो क्या नही कर सकता। बॉलीवुड में 53 इंच की छाती से फेमस दारा सिंह की आज पुण्यतिथि है। तो आइए उनके इस दिन पर उनके जीवन के अनकहे पल हम आपके साथ शेयर करते हैं।

Related image

अपने जमाने के विश्व प्रसिद्ध फ्रीस्टाइल पहलवान रहे दारा सिंह ने 1959 में पूर्व विश्व चैम्पियन जार्ज गारडियान्का को पराजित करके कामनवेल्थ की विश्व चैम्पियनशिप जीती थी। 1968 में वे अमरीका के विश्व चैम्पियन लाऊ थेज को पराजित कर फ्रीस्टाइल कुश्ती के विश्व चैम्पियन बन गये। उन्होंने पचपन वर्ष की आयु तक पहलवानी की और पाँच सौ मुकाबलों में किसी एक में भी पराजय का मुँह नहीं देखा। 1983 में उन्होंने अपने जीवन का अन्तिम मुकाबला जीतने के पश्चात कुश्ती से सम्मानपूर्वक संन्यास ले लिया।

Related image

उन्नीस सौ साठ के दशक में पूरे भारत में उनकी फ्री स्टाइल कुश्तियों का बोलबाला रहा। बाद में उन्होंने अपने समय की मशहूर अदाकारा मुमताज के साथ हिंदी की स्टंट फ़िल्मों में प्रवेश किया। दारा सिंह ने कई फ़िल्मों में अभिनय के अतिरिक्त निर्देशन व लेखन भी किया।

Related image

उन्हें टी वी धारावाहिक रामायण में हनुमान के अभिनय से अपार लोकप्रियता मिली। उन्होंने अपनी आत्मकथा पंजाबी में लिखी थी जो 1993 में हिन्दी में भी प्रकाशित हुई। उन्हें अटल बिहारी वाजपयी की सरकार ने राज्य सभा का सदस्य मनोनीत किया। वे अगस्त 2003 से अगस्त 2009 तक पूरे छ: साल राज्य सभा के सांसद रहे।

Related image

7 जुलाई 2012 को दिल का दौरा पड़ने के बाद उन्हें कोकिलाबेन धीरूभाई अम्बानी अस्पताल मुंबई में भर्ती कराया गया किन्तु पाँच दिनों तक कोई लाभ न होता देख उन्हें उनके मुम्बई स्थित निवास पर वापस ले आया गया जहाँ उन्होंने 12 जुलाई 2012 को सुबह साढ़े सात बजे दम तोड़ दिया।

दारा सिंह का पूरा नाम दारा सिंह रन्धावा का था। उनका जन्म 19 नवम्बर 1928 को अमृतसर (पंजाब) के गांव धरमूचक में हुआ था। मां श्रीमती बलवन्त कौर और पिता श्री सूरत सिंह रन्धावा के यहां हुआ था। घर वालों ने बचपन में ही उनकी शादी उनसे बड़ी उम्र की लड़की से कर दी गई थी और 17 साल की उम्र में पिता बन गए थे। 

Related image

दारा सिंह का एक छोटा भाई था जिसका नाम सरदारा सिंह था, जिसे लोग रंधावा के नाम से जानते थे। दारा सिंह और रंधावा दोनों ने मिलकर पहलवानी करनी शुरू कर दी। फिर धीरे-धीरे गांव के दंगल से लेकर शहरों तक में लगातार कई कुश्तियां जीतकर अपने गांव का नाम रोशन किया। फिल्म 'जब वी मेट' में वो आखिरी बार करीना कपूर के दादा जी के रूप में नजर आये थे।

Image result for dara singh in jab we met

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.