Sunday, May 31, 2020

Live Updates: 67th day of lockdown

Last Updated: Sat May 30 2020 11:28 PM

corona virus

Total Cases

174,000

Recovered

82,369

Deaths

4,971

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA62,228
  • TAMIL NADU20,246
  • NEW DELHI17,387
  • GUJARAT15,944
  • RAJASTHAN8,365
  • MADHYA PRADESH7,645
  • UTTAR PRADESH7,445
  • WEST BENGAL4,813
  • BIHAR3,359
  • ANDHRA PRADESH3,330
  • KARNATAKA2,781
  • TELANGANA2,425
  • PUNJAB2,197
  • JAMMU & KASHMIR2,164
  • ODISHA1,723
  • HARYANA1,721
  • KERALA1,151
  • ASSAM1,058
  • UTTARAKHAND716
  • JHARKHAND521
  • CHHATTISGARH415
  • HIMACHAL PRADESH295
  • CHANDIGARH289
  • TRIPURA254
  • GOA69
  • MANIPUR59
  • PUDUCHERRY53
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS33
  • MEGHALAYA27
  • NAGALAND25
  • ARUNACHAL PRADESH3
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2
  • DAMAN AND DIU2
  • MIZORAM1
  • SIKKIM1
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
dark-matter-the-part-of-the-universe-that-is-still-a-mystery-to-scientists-prsgnt

डार्क मैटर, ब्रह्मांड का वो हिस्सा जो आज तक वैज्ञानिकों के लिए रहस्य है, जानिए क्यों?

  • Updated on 5/8/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ब्रह्मांड में बहुत कुछ ऐसा है जिसे हम अभी तक नहीं जान पाए हैं, इनमें से ऐसा है एक रहस्य है जिसे आज तक वैज्ञानिक खोज रहे हैं। इसे डार्क मैटर कहते हैं।

वैज्ञानिकों की माने तो ब्रह्मांड का 80% हिस्सा ऐसे पदार्थों से बना हुआ है जिसका वैज्ञानिक पता नहीं लगा सकते और इसे ही वैज्ञानिक डार्क मैटर का नाम देते हैं।

क्रिस्टी पर शुरू हुई चांद के टुकड़े की नीलामी, कीमत है 2 मिलियन पाउंड

कहां है डार्क मैटर
डार्क मैटर के बारे में वैज्ञानिकों का कहा है कि यह हिस्सा ऊर्जा या रौशनी प्रतिबिंबित नहीं करता और यह हिस्सा कहां है इसका अभी तक पता लगाना संभव नही हो पाया है। लेकिन वैज्ञानिक यह भी कहते हैं कि तारों की गति से इनकी स्थिति का पता लगाया जा सकता है।

सालों पहले सन 1950 मे जब दूसरी आकाश गंगाओं पर अध्ययन करना शुरू किया गया तब वैज्ञानिकों ने माना कि ब्रह्माण्ड में काफी अधिक ऐसे पदार्थ मौजूद हैं जिन्हे खुली आंखों से नहीं देखा जा सकता। इसके बाद से ही इन पदार्थों को देखने की इच्छा हुई और उन्हें खोजने का सिद्धांत शुरू किया गया।

भारतीय मूल की छात्रा ने सुझाया नासा के मार्स हेलीकॉप्टर का नाम, नासा ने की घोषणा

डार्क मैटर की खोज
दरअसल, आकाशगंगाओं की खोज में तारों का पीछा करते हुए वैज्ञानिकों ने डार्क मैटर को खोजा लेकिन वो इसके बारे में कभी सही जानकारी नहीं जुटा सके। इसके बाद भी वैज्ञानिक लगातार खोज में लगे हुए हैं। इसी से सम्बंधित येले यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर पीटर वन डोककुम ने एक टीम के साथ मिल कर ड्रैगनफ्लाई 44 नामक आकाशगंगा की खोज की जो पूरी तरफ से डार्क मैटर से भरी हुई थी।

यहां उन्होंने पाया कि जो भी दिखाई देता था वो सतह पर सकेंद्रित थे लेकिन उनकी गति तारों के मुकाबले कई गुना तेज थी। उन्हें अलग-अलग दिशाओं में बहता हुआ देखा जा सकता था। इसके बाद ही वैज्ञानिकों ने यह निष्कर्ष निकाला कि आकाशगंगा में एक जगह पर कोई ऐसा पदार्थ है जो दिखाई नहीं देता और इसे ही फिर डार्क मैटर का नाम दिया गया।

खत्म होने वाला है सूरज! आखिर क्यों कम हो गई सूरज की चमक, जानिए क्या कहते हैं वैज्ञानिक

डार्क मैटर को कैसे मापा गया
इसके बाद जैसे जैसे खोजें होती रही उनके आधार पर वैज्ञानिकों ने कंप्यूटर की मदद से इसके मॉडल तैयार करना शुरू कर दिए और इस बात पर गौर किया गया कि बाईरोनिक मैटर और डार्क मैटर किस प्रकार एक साथ मौजूद रहेंगे। इसी के आधार पर मॉडल तैयार किया गया।

इसके अलावा गुरुत्वाकर्षण लेंसिंग के द्वारा भी वैज्ञानिक डार्क मैटर का सटीक रूप तैयार करने में लगे हुए हैं। इन खोजों के आधार पर यह कहा जा सकता है कि डार्क मैटर एक जाल के जैसा गुंथी हुई कोई गांठ है जिसमें कोई पदार्थ है।

सेना के लिए तैयार होगी मकड़ी के जाले से बुनी बुलेटप्रूफ जैकेट, हैरान कर देगी इस जैकेट की खासियत

डार्क मैटर की पहचान
कई खोजों के बाद अब वैज्ञानिक ये मानने लगे है कि डार्क मैटर होता है। और इसी के आधार पर वैज्ञानिकों ने मैसिव कॉम्पैक्ट हालो ऑब्जेक्ट  (MACHOs) नामक खोज की। यह एक प्रकार का पिंड है जो आकाशगंगा में प्रभामंडल में रहता है। लेकिन इस खोज के बाद भी आज तक वैज्ञानिक डार्क मैटर का रहस्य नहीं जान सके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.