Sunday, Jul 03, 2022
-->
dda-has-also-gathered-to-formulate-policy-in-the-plan-regarding-work-from-home

वर्क फ्रॉम होम को लेकर भी डीडीए जुटा मास्टर प्लान में नीति बनाने को

  • Updated on 10/18/2021

नई दिल्ली / टीम डिजिटल। कोरोना काल में वर्क फ्रॉम होम कल्चर तेजी से विकसित हुआ है। ऐसे में आने वाले समय में मास्टर प्लान 2041 में भी इसे लेकर अलग से प्रावधान करने के लिए लोगों ने अपनी राय जाहिर की है। डीडीए की विशेष समिति ने सोमवार को मास्टर प्लान के फाइनल ड्राफ्ट को तैयार करने से पूर्व लोगों से काम-काज और कामगारों पर रायशुमारी की।

केजरीवाल सरकार ने ‘रोजगार बाजार 2.0’ का पोर्टल तैयार करने लिए जारी किया टेंडर 

आठ अलग-अलग चरणों में हुई इस रायशुमारी में घरेलू कामगारों, वर्क फ्रॉम होम, कामकाजी लोगों के बच्चों के लिए क्रेच, आंगनवाड़ी सुविधा,  कार्यालय स्थल से  पांच मिनट की दूरी पर सार्वजनिक परिवहन सेवा, प्रवासियों के लिए किफायती आवास और जेजे कलस्टर री-सेटेलमेंट कॉलोनी जैसे मुद्दे पर विचार जाने गए।

यूपी की शाहजहांपुर जिला कोर्ट में वकील की हत्या, योगी सरकार पर बरसीं मायावती  

डीडीए अधिकारी के अनुसार मास्टर प्लान 2041 को अंतिम रूप देने से पूर्व फाइनल ड्राफ्ट पर लोगों से मिली आपत्तियों व सुझाव पर सोमवार को पहली बैठक विशेष समिति के साथ हुई। अधिकारी ने कहा कि रायशुमारी में कामगार और बेहतर कार्यालय स्थल को लेकर लोगों ने राय रखी। इसमें वर्क फ्रॉम होम, घरेलू सहायक, वेंडर्स, बाहर से आकर काम करने वालों को किफायती रहने का स्थल और कार्यालय अथवा रिहायशी एवं चाइल्ड केयर सेंटर स्थल की सुविधा विकसित करने पर लोगों ने जोर दिया।

विभिन्न संगठनों ने कहा बैठक की नहीं दी कोई जानकारी 

डीडीए ने भले ही दावा किया कि पहले दिन विशेष समिति के साथ ऑनलाइन माध्यम से बैठक के लिए 8500 लोगों ने पंजीकरण किया, लेकिन हकीकत इससे उलट ही दिख रही है। ऊर्जा संगठन, पूर्वी दिल्ली आरडब्ल्यूए फेडरेशन सहित कई अन्य संगठनों ने दावा किया कि डीडीए की तरफ से उन्हें बैठक की सूचना ही नहीं मिली। ऊर्जा के पदाधिकारी राजीव काकरिया और पूर्वी दिल्ली आरडब्ल्यूए फेडरेशन के बी.एस.वोहरा ने दावा किया कि मास्टर प्लान को लेकर कोई बैठक हुई है। इसकी सूचना उनके पास डीडीए अथवा मंत्रालय या किसी अन्य मेल, एसएमएस के जरिये नहीं दी गई। इस संबंध में वोहरा ने ट्वीट के जरिये एल जी अनिल बैजल, डीडीए और केंद्रीय मंत्रालय में शिकायत भी दर्ज कराई। जिसके बाद डीडीए की तरफ से उन्हें ट्वीट करके कहा गया कि शिकायत दर्ज करके मामले को संबंधित विभाग के पास भेज दिया गया है।

ऑनलाइन में पहले दिन फ्लॉप रही बैठक 

मास्टर प्लान 2041 को लेकर अंतिम ड्राफ्ट पर हुई विशेष समिति की पहली बैठक में उम्मीद के विपरीत लोगों ने ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज कराई। हालांकि अलग-अलग चरण की बैठक में विभिन्न विषयों के आधार पर 8500 लोग पंजीकृत होने का दावा डीडीए अधिकारी ने किया था। लेकिन डीडीए सूत्रों का कहना है कि बैठक में ऑनलाइन माध्यम से सिर्फ 50-50 लोग ही शामिल हुए। ऐसे में पहले दिन की बैठक फ्लॉप साबित रही। अब अगली बैठक 20 अक्तूबर को होगी। 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.