Tuesday, Jun 22, 2021
-->
dda land pooling policy last two days of joining

#DDA लैंड पूलिंग पॉलिसी में शामिल होने के अंतिम दो दिन

  • Updated on 2/14/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। लैंड पूलिंग पॉलिसी का काम अब जल्द ही धरातल स्तर पर आरंभ होगा। पॉलिसी में पंजीकरण के लिए आए आवेदनों के तहत डीडीए के समक्ष कुल 6449 हेक्टेयर भूमि पंजीकृत कराई गई है। करीब 17 लाख आवास विभिन्न श्रेणी में तैयार होंगे। पॉलिसी में शामिल होने के लिए डीडीए को 6113 आवेदन मिले हैं। बताया जाता है कि सबसे अधिक भूमि डीडीए को दिल्ली के बाहरी पी-2 में मिली है। हालांकि, काम सबसे पहले जोन-एन के सेक्टर-20, 21 में आरंभ करने की योजना है। योजना में शामिल होने के लिए 15 फरवरी अंतिम तिथि है। 

शाहीनबाग की प्रदर्शनकारी महिलाओं ने PM मोदी को भेजा मोहब्बत का पैगाम

जल्द शुरु होगी धरातल पर प्रक्रिया
दरअसल, पिछले वर्ष डीडीए ने इस योजना में शामिल होने के लिए अलग से वेब पोर्टल आरंभ किया था। फिलहाल सभी कार्य एक ही पोर्टल के जरिये पूरा करने की योजना में डीडीए जुटा है। डीडीए अधिकारी ने कहा कि फिलहाल सभी आवेदनों की जांच हो रही है और पूल की गई जमीन की सैटेलाइट मैपिंग भी हो रही है। ताकि किसी प्रकार की गड़बड़ी न हो सके और सेक्टरों को सही तरह से विकसित करने में मदद मिल सके। 

हरियाणा से जुड़े AAP उम्मीदवारों ने भी फतह हासिल की

करीब 17 लाख नए आवास होंगे तैयार
उल्लेखनीय है कि सभी सेक्टरों को दिल्ली सरकार द्वारा सत्यापित किया जाएगा। इसके आधार पर ही इन इलाकों में पूल की गई जमीन के क्षेत्र और आधारिक संरचना व सड़क नेटवर्क की उपलब्धता के आधार पर जोन एन के सेक्टर-20 व 21 की योजना तैयार करने की प्रक्रिया भी शुरु की गई है। पिछले महीने पूठ खुर्द गांव और तीन फरवरी को बवाना में पॉलिसी के संदर्भ में डीडीए अधिकारियों ने बैठक भी की थी। ताकि और अधिक लोगों को इस योजना में शामिल होने के लिए प्रेरित किया जा सके। 

#BJP को अगर #EVM की मदद नहीं मिले तो वह कोई चुनाव नहीं जीत सकती: दिग्विजय

ईडब्ल्यूएस फ्लैट बनाना अनिवार्य मिलेगा अतिरिक्त एफएआर
लैंड पूलिंग पॉलिसी में पंजीकृत आवेदकों को योजना के तहत निर्धारित मानक को पूरा करने के लिए कुल भूमि के हिस्से में से पंद्रह प्रतिशत पर ईडब्ल्यूएस फ्लैट भी तैयार करने होंगे। हालांकि ऐसा करने वालों को अतिरिक्त एफएआर का लाभ मिलेगा। जिससे डेवलपर बिल्डिंग में अधिक निर्माण में उपयोग कर सकेगा। 

रसोई गैस LPG की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर मोदी सरकार पर हमलावर कांग्रेस

यहां मिली इतनी जमीन
डीडीए के अनुसार लैंड पूङ्क्षलग पॉलिसी के विभिन्न सेक्टरों को दिल्ली के बाहरी इलाकों में विकसित किया जाएगा। इसमें हरियाणा के बॉर्डर से सटे पूठखुर्द से लेकर जीटी करनाल रोड के निकट बवाना तक के क्षेत्र में अलग-अलग जोन के आधार पर पॉलिसी में गांव शहरी ग्राम का दर्जा देते हुए उनको शामिल किया गया है। डीडीए अधिकारी ने बताया कि अलग-अलग जोन के आधार पर अब 6113 आवेदन मिले हैं, कुल 6449 हेक्टेयर भूमि को इस पॉलिसी के तहत पंजीकृत कराया गया है। इसमें यमुना क्षेत्र के समीप बसे जोन के-1 में 231 हेक्टेयर भूमि मिली है। इसके बाद जोन-एल में 1659 हेक्टेयर, जोन एन में 3294 हेक्टेयर, जोन पी-2 में 1261 हेक्टेयर और जोन-जे में सबसे कम सिर्फ 4 हेक्टेयर भूमि ही पूल की गई है। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.