Tuesday, Jun 22, 2021
-->
DDA Preparing Master Plan for Delhi Development seeks suggestion from Youth KMBSNT

दिल्ली के विकास को लेकर युवाओं के सपने होंगे साकार! DDA ने मांगे सुझाव

  • Updated on 9/16/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली के विकास की तैयारी कर रहा डीडीए (DDA) अब इसको लेकर युवाओं का नजरिया जाना चाहता है। दिल्ली को युवाओं की नजर से देखने पर वह कैसी होगी या युवाओं के सपनों की दिल्ली कैसी हो सकती है यह बात खुद युवाओं के नजरिए से ही जानने का प्रयास डीडीए कर रहा है।

मास्टर प्लान 2041 को लेकर चल रहे मंथन के तहत 18 वर्ष से लेकर 30 वर्ष तक की आयु के युवाओं को इसमें शामिल होने का अवसर दिया जाएगा। 18 सितंबर से यह शुरू होगा। इसमें शामिल होने के लिए ऑनलाइन माध्यम से डीडीए की वेबसाइट पर दिए गए फॉर्म को भरा जा सकता है।

फेसबुक ने की दिल्ली विधानसभा समिति की अनदेखी, राघव चड्ढा ने चेताया

किया जाएगा ऑनलाइन सार्वजनिक परामर्श
डीडीए अधिकारी ने बताया कि दिल्ली मास्टर प्लान 2041 के लिए युवाओं के साथ ऑनलाइन सार्वजनिक परामर्श किया जाएगा। डीडीए द्वारा राष्ट्रीय शहरी कार्य संस्थान एनआईए के सहयोग से दिल्ली मास्टर प्लान 2041 को तैयार किया जा रहा है। इसके लिए विभिन्न वर्ग और आरडब्ल्यूए नागरिक समूहों के साथ चर्चा और परामर्श किया जा रहा है।

अधिकारी ने बताया कि युवा किस तरह की दिल्ली देखना चाहते हैं और उनके क्या विचार हैं यह जानने के लिए परामर्श बैठक की जाएगी, ताकि दिल्ली के युवाओं की राय से मुख्य योजना के एजेंडे पर काम करने में मदद मिल सके। अधिकारी ने कहा कि दिल्ली में युवाओं का एक बड़ा वर्ग है।

सुदर्शन टीवी के विवादास्पद कार्यक्रम पर सुप्रीम कोर्ट ने की सख्त टिप्पणी

आयोजित होगी सभाओं की एक श्रंखला
उन्होंने बताया कि दिल्ली के युवा वर्ग के विचारों को जानने के लिए युवा सभाओं की एक श्रंखला आयोजित की जा रही है। इन बैठकों का उद्देश्य शहर में युवा वर्ग के सामने आई समस्याओं के बारे में जानकारी प्राप्त करना और संभव समाधान पर चर्चा करना है। सत्र की शुरुआत 18 सितंबर से होगी। अधिकारी ने बताया कि बैठक से जुड़ा विस्तृत कार्यक्रम डीडीए की वेबसाइट पर और ऑफिशियल डीडीए और यूथ फॉर  दिल्ली 2041 पर देख सकते हैं।  साथ ही बैठक में परामर्श देने के लिए अथवा डीडीए की वेबसाइट पर मास्टर प्लान से संबंधित दिए गए फॉर्म को भरकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

comments

.
.
.
.
.