Sunday, Jan 23, 2022
-->
ddma''''s new guideline released: private office closed in delhi

DDMA की नई गाइडलाइन जारीः दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस बंद, कर्मचारियों को मिलेगा वर्क फ्रॉम होम

  • Updated on 1/11/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तेज रफ्तार को देखते हुए दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए)  ने नई गाइडलाइन जारी कर सभी प्राइवेट ऑफिस को बंद करने का आदेश दिया है। यहां काम करने वाले कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दी जाएगी। हालांकि डीडीएमए ने उन दफ्तरों को इससे बाहर रखा जो इस श्रेणी में नहीं आते। 

इससे पहले डीडीएमए ने रेस्टोरेंट में बैठकर भोजन करने पर पाबंदी लगा दी थी। लेकिन रेस्टोरेंट से भोजन की होम डिलीवरी व घर ले जाने की सुविधा रहेगी। इसके साथ ही बार को बंद कर दिया गया है। वहीं, प्रति जोन हर दिन केवल एक साप्ताहिक बाजार को खोलने की अनुमति दी गई है।

दिल्ली में अभी लॉकडाउन नहीं लगाने का निर्णय लिया गया है। उपराज्यपाल अनिल बैजल की अध्यक्षता में सोमवार को हुई दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की बैठक में इस आशय के निर्णय लिए गए।

बैठक में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल,उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया,स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन,राजस्व मंत्री कैलाश गहलोत, नीति आयोग के डॉ.वीके पाल,आईसीएमआर के बलराम भार्गव व वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

जांच कराने वाला वाला हर चौथा शख्स कोराना पॉजिटिव

बैठक में इस बात पर चर्चा हुई कि दिल्ली में लगाई गई पाबंदियों को पूरे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में भी लागू कराना चाहिए। सूत्र बताते हैं कि छूट श्रेणी वाले प्राइवेट दफ्तरों को छोडक़र बाकी प्राइवेट दफ्तरों को भी 100 फीसदी वर्क फ्रॉम होम करने पर चर्चा हुई है, लेकिन डीडीएमए के आदेश आने के बाद ही इस पर तस्वीर साफ होगी।

बैठक में इस बात पर चर्चा की गई कि मौजूदा पाबंदियों को कैसे सख्ती से लागू किया जाए,ताकि कोरोना वायरस और इसके नए स्वरूप ओमिक्रॉन के फैलने पर अंकुश लगाया जा सके। उपराज्यपाल ने कहा कि अधिकारियों को सलाह दी गई है कि वह बाजार और सार्वजनिक स्थानों पर कड़ाई के साथ यह सुनिश्चित करें कि लोग मास्क लगाएं और सामाजिक दूरी के नियम का पालन करें, ताकि वायरस के चक्र को तोड़ा जा सके।

दिल्ली में कोरोना की बूस्टर डोज लगनी शुरू,एम्स निदेशक ने पहले दिन ली बूस्टर डोज

उपराज्यपाल ने कहा कि दिल्ली में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या, संक्रमण दर व मृत्यु दर पर लगातार नजर रखने की जरूरत है, ताकि स्थिति को नियंत्रण में रखा जा सके।

अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच बाजारों में सामाजिक दूरी व मास्क लगाना सुनिश्चित करें। उपराज्यपाल ने होम आइसोलेशन को मजबूत करने व टीकाकरण बढ़ाने पर जोर दिया। वहीं, विशेषज्ञों ने ज्यादा जांच, इलाज व कोरोना से बचाव के लिए कोविड अनुकूल व्यवहार को अपनाने पर जोर दिया।

उपराज्यपाल ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिए कि अस्पताल में ज्यादा कर्मियों को तैनात करें और 15 से 18 वर्ष के लोगों का टीकाकरण तेज किया जाए। उपराज्यपाल ने कोरोना प्रबंधन में लगे सभी विभागों को समन्वय के साथ काम करने के निर्देश दिए। बैठक में मेट्रो ट्रेन-बसों में 50 फीसदी सीट पर ही सवारियों को बैठने की अनुमति देने पर भी चर्चा हुई, लेकिन सरकार इसके पक्ष में नहीं है।

comments

.
.
.
.
.