Wednesday, Jun 29, 2022
-->
deadline for submission of resolution plan extended for debt-ridden reliance capital rkdsnt

कर्ज में डूबी रिलायंस कैपिटल के लिए बढ़ाई गई समाधान योजना जमा करने की समयसीमा

  • Updated on 5/11/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कर्ज में डूबी रिलायंस कैपिटल लिमिटेड (आरसीएल) की समाधान योजना के लिए बोलियां जमा करने की अंतिम तिथि को बढ़ाकर 30 जून करने पर ऋणदाताओं ने सहमति जताई है। सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि बोलीदाताओं की तरफ से अबतक ठंडी प्रतिक्रिया को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। ऋणदाताओं की समिति (सीओसी) ने इससे पहले रिलायंस कैपिटल के लिए समाधान योजना पेश करने की अंतिम तारीख 26 मई तय की थी।

ज्ञानवापी परिसर सर्वे प्रकरण : बृहस्पतिवार 12 बजे के बाद फैसला सुनाएगी कोर्ट

ऋणदाताओं ने बुधवार को समीक्षा बैठक के बाद बोलीदाताओं की ठंडी प्रतिक्रिया को देखते हुए बोलियां जमा करने की अंतिम तारीख को 30 जून तक बढ़ाने का फैसला किया।  सूत्रों ने कहा कि 54 संभावित समाधान आवेदकों (पीआरए) में से अबतक केवल आठ बोलीदाताओं ने ऋणदाताओं के संपर्क किया है। उन्होंने बताया कि 54 बोलीदाताओं में से 45 ने ऋणदाताओं की समिति से संपर्क ही नहीं किया है और वे पूरी तरह से ‘निष्क्रिय’ हैं।    

न्यायालय ने राजद्रोह कानून पर रोक लगाई, मंत्री रीजीजू ने याद दिलाई ‘लक्ष्मण रेखा’

  वहीं आठ बोलीदाताओं में से पांच ने रिलायंस कैपिटल के प्रशासक से कुछ मुद्दों को लेकर स्पष्टीकरण मांगा है जबकि केवल तीन ने समाधान प्रक्रिया को लेकर प्रबंधन के साथ बैठक की है।  सूत्रों ने ऋणदाताओं के हवाले से कहा कि प्रतिकूल आर्थिक परिस्थितियों और वैश्विक स्तर पर चुनौतीपूर्ण स्थिति के कारण ज्यादातर बोलीदाताओं की तरफ से ठंडी प्रतिक्रिया मिली है।      

मोहाली हमले में इस्तेमाल किया गया लॉंचर बरामद हुआ : पंजाब पुलिस 

आरसीएल की तरफ से सभी बोलीकर्ताओं के लिए दो विकल्प दिए गए थे। पहले विकल्प में आरसीएल और उसकी अनुषंगियों के लिए बोली लगाई जा सकती थी जबकि दूसरे विकल्प में अनुषंगी कंपनियों के लिए अलग-अलग या जोड़ बनाकर बोली लगाने की सुविधा दी गई थी। रिजर्व बैंक ने 29 नवंबर, 2021 को आरएलसी के बोर्ड को भंग कर दिवालिया प्रक्रिया संचालित करने के लिए नागेश्वर राव वाई को प्रशासक नियुक्त किया था।

राजपक्षे के वफादारों को श्रीलंका से फरार होने से रोकने के लिए प्रदर्शनकारियों ने बनाई चौकी

comments

.
.
.
.
.