Friday, Dec 09, 2022
-->
death-toll-in-delhi-increased-more-than-2000-people-died-of-corona-so-far-in-november-prsgnt

दिल्ली में मौत के आंकड़ों ने बढ़ा दी चिंता, नवंबर में अब तक 2000 से अधिक लोगों की कोरोना से मौत

  • Updated on 11/24/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश में कोरोना की दूसरी लहर अपने चरम पर है। इसका सबसे ज्यादा असर राजधानी दिल्ली में देखने को मिल रहा है। दिल्ली में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या ने चिंता बढ़ा दी है। 

दिल्ली सरकार द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण सिर्फ नवंबर के महीने में 2000 से ज़्यादा मौतें दिल्ली में दर्ज की गई हैं। इससे पहले दिल्ली में जून के महीने में मौत का आंकड़ा 2000 के पार पहुंचा था। लेकिन, जितनी तेजी के साथ नवंबर में मौत के आंकड़े दर्ज किए गए हैं वो जून महीने का रिकॉर्ड भी तोड़ सकते हैं। 

दिल्ली: दुकान पर अंधाधुंध फायरिंग वाली महिला गिरफ्तार, बुर्खे पहनकर चलाई थी गोलियां

इस वक़्त दिल्ली में 1 नवंबर से 23 नवंबर तक 2001 लोगों की कोरोना से मौत दर्ज की गयी है और मृत्यु दर 1.59 फीसदी है। जबकि इससे पहले अक्टूबर महीने में 1 तारीख से 31 तक दिल्ली में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 1124 था। जबकि सितंबर के महीने में कुछ मौतें अक्टूबर के मुकाबले कम हुईं थी।

आंकड़ों के अनुसार, 1 सितंबर से 30 सितंबर तक दिल्ली में 917 लोगों की कोरोना से मौत हो गई थी। जबकि अगस्त में कोरोना से होने वाली मौत का आंकड़ा कम था। 1 अगस्त से 31 अगस्त तक कोरोना से 458 मौतें हुईं थी।   

कोरोना बढ़ रहा है दिल्ली में, पाबंदियां लग रही हैं आसपास के राज्यों में...जानें पूरी बात

वहीँ, जून की बात करें तो इस महीने में दिल्ली कोरोना की गंभीर चपेट में था, इस माह में संक्रमण दर 30 फीसदी पर पहुंच गई थी, वहीं मौत की दर 7 फीसदी को पार चली गई थी। कोरोना से पूरी दिल्ली में अब तक 8512 लोगों की मौत हुई है और इसमें से सबसे अधिक 2247 मौत केवल जून के महीने में हुई थी। 

वहीं, दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने दिल्ली में बढ़ते मौत के मामलों के पीछे पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण को ज़िम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा है कि पराली के जलने से जो प्रदूषण हुआ उससे कोरोना संक्रमण के मामले काफी बढ़ गए हैं और इस वजह से डेथ रेट में भी इजाफा हुआ। 

उन्होंने कहा, पराली गलाने के लिए दिल्ली सरकार ने जो बायो-डिकम्पोज़र का प्रयोग किया है वो काफी सफल रहा है। कल हमने एयर क्वालिटी मैनेजमेंट कमीशन के सामने एक पिटीशन दायर की ताकि बायो-डिकम्पोज़र को सभी राज्यों में अनिवार्य किया जाए और पराली की समस्या कम हो। 

बता दें, दिल्ली में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या कुल 8,512 हो गई। हालांकि राहत की बात ये है कि यहां कोरोना को मात देकर स्वस्थ होने वालों की संख्या 4,88,476 पहुंच गई है। बुलेटिन के अनुसार, राज्य में फिलहाल 37,329 लोगों का संक्रमण का इलाज चल रहा है। वहीं पिछले 24 घंटे में 37,307 से अधिक नमूनों की जांच की गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.