Monday, Aug 02, 2021
-->
defense minister rajnath singh said india could not depend on imported defense supplies sohsnt

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा- भारत आयातित रक्षा आपूर्ति पर निर्भर नहीं रह सकता,आत्मनिर्भरता जरूरी

  • Updated on 8/14/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बृहस्पतिवार को कहा कि भारत अपने सैन्य उपकरणों की जरुरतों को पूरा करने के लिए विदेशी सरकारों और विदेशी आपूर्तिकर्ताओं के ऊपर निर्भर नहीं रह सकता और रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भता अन्य क्षेत्र से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है।

प्रणब मुखर्जी की मौत की फेक खबर पर बेटे अभिजीत ने जताई आपत्ति, कही ये बात

राष्ट्र के लिए सुरक्षा पहली प्राथमिकता-सिंह
राजनाथ सिंह ने यह बात सार्वजनिक क्षेत्र के कई रक्षा उपक्रमों और आयुध निर्माणी बोर्ड द्वारा लाए गए कई नए उत्पादों को लांच करते हुए की। सिंह ने कहा,'किसी भी राष्ट्र के विकास के लिए सुरक्षा पहली प्राथमिकता है। यह हम सभी जानते हैं कि जो राष्ट्र अपनी रक्षा करने में सक्षम हैं, वे वैश्विक स्तर पर अपनी मजबूत छवि बनाने में सफल रहे हैं।'

पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम के खिलाफ CBI को नहीं मिले सुबूत

विदेशी आपूर्तिकर्ताओं पर नहीं रह सकते निर्भर

उन्होंने कहा, 'हम अपनी रक्षा जरूरतों को पूरा करने के लिए विदेशी सरकारों, विदेशी आपूर्तिकर्ताओं और विदेशी रक्षा उत्पादों पर निर्भर नहीं हो सकते हैं। यह मजबूत और आत्मनिर्भर भारत के उद्देश्यों और भावनाओं के अनुकूल नहीं है।' सिंह ने कहा, 'हमें न केवल अपने राष्ट्रीय हितों की पूर्ति सुनिश्चित करने में सक्षम होना चाहिए बल्कि जरूरत के समय अन्य लोगों की भी मदद करने में सक्षम होना चाहिए।

राजस्थान में विश्वास बनाम अविश्वास प्रस्ताव, भाजपा और कांग्रेस में हलचल बढ़ी

रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता काफी महत्वपूर्ण
रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता किसी भी अन्य क्षेत्र की तुलना में कहीं अधिक महत्वपूर्ण है।' हथियार प्रणालियों की आयात सूची में वर्ष वार आधार पर कमी करने के निर्णय की सबसे पहले घोषणा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा मई में की गई थी, जब उन्होंने रक्षा विनिर्माण क्षेत्र के सुधार के उपाय पेश किये थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.