Thursday, May 13, 2021
-->
delhi chandni chowk hanuman mandir build ndmc kmbsnt

हनुमान मंदिर को लेकर पक्ष-विपक्ष एकमत! सर्वसम्मति से मिलेगी वैधानिक मंजूरी

  • Updated on 2/24/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चांदनी चौक (Chandni Chowk) में तोड़े गए हनुमान मंदिर (Hanuman Mandir) की जगह बनाए गए नए मंदिर को मान्यता दिलाने के लिए उत्तरी दिल्ली के महापौर जयप्रकाश ने मंगलवार को उत्तरी दिल्ली नगर निगम मुख्यालय सिविक सेंटर में सर्वदलीय बैठक बुलाई। बैठक में हनुमान मंदिर के संबंध में प्रस्ताव लाने के लिए उपस्थित सभी पक्ष विपक्ष व कांग्रेस के नेताओं ने विचार विमर्श किया।

महापौर ने सभी तीनों दलों के नेताओं से संबंध में सहयोग मांगा ताकि इस प्रस्ताव को सर्वसम्मति से उत्तरी दिल्ली नगर निगम के सदन में पास किया जा सके। उधर दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष मुदित अग्रवाल ने मंगलवार को दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल को पत्र लिखकर चांदनी चौक स्थित प्राचीन हनुमान मंदिर को कानूनी तौर पर नियमित करने की मांग की है। अग्रवाल ने उपराज्यपाल को पत्र के माध्यम से पूरी स्थितियों से अवगत कराते हुए लोगों की आस्था और विश्वास की खातिर नियमित करने की अपील की है। 

टीकरी बॉर्डर पर दिल्ली पुलिस के पोस्टरों को लेकर किसानों ने जताई आपत्ति, कही ये बात

रातों रात बनाया गया था हनुमान मंदिर
बता दें कि विकास कार्य के चलते दिल्ली के चांदनी चौक में हटाए गए हनुमान मंदिर (Hanuman Mandir) का निर्माण बीते सप्ताह रातभर में कर दिया गया। शुक्रवार को इस मंदिर निर्माण का पता लगा। उत्तरी दिल्ली नगर निगम की ओर से यहां पर हनुमान जी की मूर्ति स्थापित की गई है। ये ठीक उसी प्रकार की मूर्ति है जो मंदिर में पहले से ही थी। गुरुवार को मूर्ति को मंदिर में लाया गया था। इसके बाद ही मंदिर निर्माण का कार्य शुरू हुआ था। 

स्थानीय लोगों ने मिलकर बनाया मंदिर
बताया जा रहा है कि ये मंदिर स्थानीय लोगों ने मिलकर तैयार किया है। इसे स्टील और लोहे से बनाया गया है। हैरान करने वाली बात है कि स्थानीय लोगों ने ये मंदिर रातों रात बना डाला और पुलिस प्रशासुन और स्थानीय निकाय को इसकी भनक तक नहीं लगी। सुबह जब लोग मंदिर के पास पहुंचे तो वहां पर मंदिर बना पाया। लोगों ने यहां श्रीराम और बजरंग बली के दर्शन कर उनका जयकारा लगाया।  

किसान महापंचायत में योगेंद्र बोले- आने वाली पीढ़ी के लिए दरवाजे बंद कर देंगे नये कृषि कानून

जनवरी में तोड़ा गया था मंंदिर
बता दें कि जनवरी माह में ये मंदिर तोड़ा गया था, जिसके बाद यहां पर कई हिंदू संगठनों ने विरोध भी किया। वहीं इस मुद्दे पर निगम प्रशासित बीजेपी और दिल्ली प्रशासित आम आदमी पार्टी ने भी जमकर बयानबाजी की थी। हालांकि उत्तरी दिल्ली नगर निगम का कहना था कि विकास कार्य के चलते मंदिर को यहां से हटाया गया है उसे तोड़ा नहीं गया।

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.