Wednesday, Feb 01, 2023
-->
delhi coronavirus 400 taxi for ambulance service delhi govt kmbsnt

कोरोना से जंग: केजरीवाल सरकार ने 400 प्राइवेट टैक्सी को एंबुलेंस सेवा से जोड़ा

  • Updated on 7/20/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। अब लोगों के एक फोन पर कुछ ही मिनटों में एंबुलेंस हाजिर हो जाएगी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पहल पर दिल्ली कैबिनेट ने 400 प्राइवेट टैक्सी को एंबुलेंस सेवा के तौर पर हायर करने की मंजूरी दे दी है। इसमें से 200 शुरू भी कर दी गई है और बाकी 220 जल्द शुरू कर दी जाएंगी। इससे मरीजों को एंबुलेंस के लिए लंबा इंतजार नहीं करना पड़ेगा।

सूत्र बताते हैं कि दिल्ली कैबिनेट ने बुधवार को 400 टैक्सी, एंबुलेंस सेवा के लिए किराए पर लेने को मंजूरी दी है। बता दें कि समय से एंबुलेंस नहीं मिलने की मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल तक इसकी शिकायत पहुंचने के बाद दिल्ली कैबिनेट ने एंबुलेंस के लिए किराए पर टैक्सी लेने की मंजूरी दी है। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने टैक्सी किराए पर लेकर कैट्स एंबुलेंस के तौर पर इस्तेमाल शुरू कर दिया है। 

मिंटो ब्रिज हादसे पर BJP ने बोला केजरीवाल सरकार पर हमला, कहा- मौत को रोका जा सकता था

स्वास्थ्य मिशन के तहत वहन किया जाएगा एंबुलेंस का किराया
एंबुलेंस का किराया दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मिशन के तहत वहन किया जाएगा। यह एंबुलेंस नॉन सीरियस मरीजों को घर से अस्पताल पहुंचाने और अस्पताल से घर ले जाने का काम करेंगी। बता दें कि हाल ही में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि एंबुलेंस की थोड़ी दिक्कत हो रही है। मुझे यह बताया गया है कि कुछ लोगों को फोन करने पर भी एंबुलेंस के लिए कई घंटे इंतजार करना पड़ रहा है। ऐसे में सरकार ने आदेश निकाल कर कई सारी प्राइवेट अस्पतालों की एंबुलेंस भी सरकारी सेवा में शामिल करने के साथ 400 अतिरिक्त टैक्सी एंबुलेंस के लिए किराया पर लेने का फैसला किया है।

Delhi Rain: मिंटो रोड हादसे पर बोले केजरीवाल- ये वक्त एक दूसरे पर दोष लगाने का नहीं

कैट्स एंबुलेंस के निदेशक के अधीन होंगी 400 टैक्सी
400 टैक्सी के चलते कैट्स एंबुलेंस की संख्या में खासी वृद्धि हो गई है। अब कैट्स एंबुलेंस की संख्या बढ़कर 1000 हो गई है। दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार 400 टैक्सी कैट्स एंबुलेंस के निदेशक के अधीन होंगी। सभी 400 टैक्सी के कामकाज का लेखा-जोखा भी कैट्स एंबुलेंस के निदेशक रखेंगे। इन सभी टैक्सी की सेवा को हेल्पलाइन 102 से जोड़ दिया गया है ताकि आकस्मिक जरूरत पड़ने पर मरीजों को सेवा मुहैया कराई जा सके। लेकिन इसकी सेवा नॉन सीरियस मरीजों के लिए है किराया दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मिशन द्वारा दिया जाएगा। 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

comments

.
.
.
.
.