Wednesday, Feb 01, 2023
-->
delhi-coronavirus-radt-rtpcr-test-delhi-govt-kmbsnt

इसलिए दिल्ली में कम हुई कोरोना की रफ्तार? RADT करवाने वाले बहुत कम लोग करवा रहे री-टेस्टिंग

  • Updated on 7/20/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों की रफ्तार कम होने लगी है। ऐसे में विशेषज्ञों का कहना है कि दिल्ली में 18 जून के बाद से रैपिड एंटिजन टेस्ट किस से अधिक टेस्ट होने लगे हैं। यहां 200 में से केवल एक ही व्यक्ति जो निगेटिव पाया जाता है फिर से आरटीपीसीआर द्वारा कोरोना की जांच करवा रहा है। 

25 जून को दिल्ली में कोरोना के मामले 3390 तक पहुंच गए थे वो जुलाई 15 तक 1790 पर आ गए। दिल्ली ने औपचारिक रूप से 18 जून को एंटीजन परीक्षण किट का उपयोग शुरू किया और जुलाई से उनके उपयोग को तेज कर दिया है। एक दिन में होने वाले कुल परीक्षणों में रैपिड एंटीजन टेस्ट किट से ज्यादा परीक्षण होने लगे। लेकिन भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के दिशानिर्देशों का पालन न करते हुए इन टेस्ट के बाद आरटीपीसीआर टेस्टिंग नहीं हुई है। 

केजरीवाल सरकार के आने से सुधरे दिल्ली के हालात- जलभराव पर राघव चड्ढा

18 जून से 16 जुलाई तक 262 पॉजिटिव
18 जून से 16 जुलाई तक, दिल्ली ने 305,820 रैपिड एंटीजेन डिटेक्शन टेस्ट (RADT) किए। जो मानक RT-PCR (रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन) का एक तेज़ पूरक है, जबकि सबसे सटीक रूप में रिपोर्ट आने में 24-48 घंटे लगते हैं। जिससे ये तय होता कि व्यक्ति कोरोना से संक्रमित है या नहीं। इनमें से 285,225 टेस्ट की रिपोर्ट निगेटिव आई। उनमें से, 1,670 (या लगभग 0.5%) को आरटी-पीसीआर द्वारा पुन: परीक्षण के लिए चुना गया था और इनमें से 262 को पॉजिटिव रूप से पुष्टि की गई थी। 

दिल्ली में कोरोना के 1200 से ज्यादा नए मामले, 31 लोगों की मौत

RADT की सीमा
जानकारी के लिए आपको बता दें कि RADT की सीमा यह है कि वे उन लोगों में से आधे से अधिक लोगों की पहचना नहीं कर पाता जो कि कोरोना संक्रमित होते हैं। यही वजह है कि ICMR अनुशंसा करता है कि इन परीक्षणों को उन क्षेत्रों में किया जाए जहां ये बड़े स्तर पर फैला हो। इसके साथ ही जहां वायरस के संक्रमण फैलने की अधिक आशंका वहां लोगों के निगेटिव मिलने के बाद भी अगर उनमें लक्षण दिखाई दें तो उनकी आरटीपीआर के तहत कोरोना जांच करवाई जाए। 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.