Monday, May 23, 2022
-->
delhi court order for chargesheet against industrialist naveen jindal and four other officials

नवीन जिंदल सहित 5 के खिलाफ आरोप तय करने का अदालत ने दिया आदेश

  • Updated on 7/1/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली की एक विशेष अदालत ने सोमवार को कहा कि उद्योगपति नवीन जिंदल और उनकी कंपनी के चार अन्य अधिकारियों ने कोयला खंड आवंटन घोटाला मामले में स्क्रीनिंग कमेटी के सामने कथित तौर पर गलत दावे किए। अदालत ने उनके खिलाफ आरोप तय करने का आदेश दिया है। विशेष न्यायाधीश भरत पराशर ने जिंदल एवं अन्य के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं 420 (धोखाधड़ी) और 120 बी (आपराधिक साजिश) के तहत आरोप तय करने का आदेश दिया। 

विजय माल्या प्रत्यर्पण के आदेश को ब्रिटेन की हाई कोर्ट में देगा चुनौती

जिंदल के अलावा जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड के पूर्व निदेशक सुशील मारू, पूर्व उपप्रबंध निदेशक आनंद गोयल, मुख्य कार्यकारी अधिकारी विक्रांत गुजराल और कंपनी की ओर से हस्ताक्षर करने के लिये अधिकृत अधिकारी डी एन अबरोल के खिलाफ भी आरोप तय करने का आदेश अदालत ने दिया। अदालत मध्य प्रदेश में अर्टन नॉर्थ कोयला खंड के आवंटन से संबंधित एक मामले की सुनवाई कर रही थी। 

महिला वन अधिकारी पर लाठी-डंडों से हमला, महिला आयोग ने जताई चिंता

अदालत ने मामले में आरोपियों के खिलाफ औपचारिक रूप से आरोप तय करने के लिये 25 जुलाई की तारीख तय की है। झारखंड में अमरकोंडा मुर्गादंगल कोयला खंड आवंटन मामले में कथित अनियमितताओं से संबंधित अन्य मामले में पूर्व कोयला राज्य मंत्री दसारी नारायण राव और झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा के साथ जिंदल को भी आरोपी बनाया गया है। 

#BJP महासचिव कैलाश बल्ला कांड में अपने बेटे आकाश के बचाव में उतरे

मामले में सीबीआई के आरोपपत्र के अनुसार आरोपियों ने मध्य प्रदेश कोयला खंड का अधिकार पाने के लिये स्क्रीनिंग कमेटी के समक्ष अपने जनवरी 2007 के आवेदन में गलत तथ्य दिये थे और गलत तरीके से लाभ पाने के लिये कोयला मंत्रालय को धोखे में रखा, जिसकी वजह से इस कोयला खंड के लिये उनके नाम की सिफारिश की गयी। मंत्रालय ने अक्टूबर 2009 में कंपनी को आवंटन पत्र जारी किया था। 

अमित शाह, विधायक लीना जैन को दी बम से उड़ाने की धमकी

जांच एजेंसी ने आरोपपत्र में 60 दस्तावेजों को जोडऩे के अलावा अपने मामले को साबित करने के लिये 64 व्यक्तियों के नाम अभियोजन पक्ष के गवाह के तौर पर शामिल किये हैं। आरोपपत्र में कहा गया है कि प्रतिक्रिया फॉर्म में कंपनी ने दो मायने में गलत दावे किये कि उसने झारखंड के पतरातू परियोजना के लिये पहले ही 964 एकड़ भूमि अधिगृहित कर ली है और उसने ओडिशा में अपने अंगुल परियोजना के लिये 4,340 करोड़ रुपये के उपकरण का ऑर्डर दे दिया है।       

मनोज तिवारी के आरोपों के बाद केजरीवाल ने #BJP पर साधा निशाना

   

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.