Wednesday, Jan 19, 2022
-->
delhi dtc all cluster buses e ticketing from november kmbsnt

दिल्ली: नवंबर से डीटीसी, क्लस्टर की सभी बसों में होगी ई-टिकटिंग

  • Updated on 9/23/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना काल में बसों में संपर्क रहित ई-टिकटिंग (E-Ticketing) एप 'चार्टर' के दूसरे चरण का ट्रायल पूरा हो गया है एप का ट्रायल परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत (Kailash Gahlot) द्वारा गठित एक विशेष टास्क फोर्स द्वारा किया गया। परिवहन मंत्री ने कहा कि हम नवंबर के पहले सप्ताह तक इस एप के तहत सभी कलस्टर और डीटीसी बसों को कवर करने की उम्मीद कर रहे हैं। 

7 से 21 सितंबर तक चलने वाले दूसरे चरण के ट्रायल में दिल्ली इंटीग्रेटेड मल्टी मॉडल ट्रांजिट सिस्टम (डीआईएमटीएल) के 4 डिपो दिलशाद गार्डन,  कैर डिपो, कुशक नाला और सुनहरी पुला डिपो के 60 से अधिक मार्गों को कवर किया गया था। इसके साथ ही दिल्ली परिवहन निगम के 2 डिपो हसनपुर और गाजीपुर डिपो से 1-1 रूट कवर किया गया।

दूसरे चरण के 14 दिन की अवधि में एप के माध्यम से खरीदे गए 51 हजार 644 टिकटों में से 79.4 प्रतिशत महिला यात्रियों द्वारा खरीदे गए मुफ्त पिंक टिकट शामिल हैं। 

निजी अस्पतालों के 80% ICU बेड्स रिजर्व करने वाले केजरीवाल सरकार के फैसले पर HC की रोक

एप की सभी कमियां दूर
पहले चरण के ट्रायल के दौरान ऐप में जो भी कमियां सामने आई थी उसे ट्रायल के दूसरे चरण में दूर किया गया। यह एप अब और भी कई नए फीचर्स को सपोर्ट करता है। इस मोबाइल ईटिकटिंग एप को इंद्रप्रस्थ सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के संस्थान के तकनीकी सहयोग से विकसित किया गया है।

पहले चरण में चार्टर एक्ट का ट्रायल रूट नंबर 473 की सभी क्लस्टर बसों में 3 दिनों के लिए किया गया था। यात्री बस में चढ़ने के बाद इस मोबाइल ऐप के माध्यम से ही टिकट ले सकते हैं। गूगल प्ले स्टोर पर यह ऐप अप फुल वर्जन में उपलब्ध है। यात्री चाहे तो ऐप पर  यूआरएल प्राप्त करने के लिए व्हाट्सएप नंबर 99110 96264 पर हाय लिख कर भी भेज सकते हैं।

कृषि बिल का विरोध कर रहे सांसदों की सीएम केजरीवाल ने की तारीफ

एप से ये जानकारी हासलि कर सकता है यात्री
इस ऐप में एक उपयोगकर्ता बस के सभी स्टॉपेज को भी देख सकता है और स्टॉप का नाम लिखकर यह भी देख सकता है कि अगले आधे घंटे में कौन-कौन सी बसे आने वाली है। बस में यात्रा के दौरान यात्रा के अपेक्षित समय को रियल टाइम में अपडेट किया जाता है और जैसे ही यात्री अपने गंतव्य पर पहुंच जाता है वैसे ही टिकट अमान्य हो जाता है।

यदि कोई उपयोगकर्ता टिकट का किराया जानता है तो वह ऐप में बाय फेयर पर क्लिक कर सकता है और बस पकड़ते ही बस क्यूआर कोड को स्कैन करके भुगतान करने के बाद टिकट प्राप्त किया जा सकता है। एक उपयोगकर्ता एक यात्री के लिए तीन टिकट तक खरीद सकता है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.