Friday, May 07, 2021
-->
Delhi DTC Buses Charter App Social distancing KMBSNT

चार्टर एप से टिकट खरीदकर DTC बसों में होगा सुरक्षित सफर, आए ये नए फीचर्स

  • Updated on 9/12/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत (Kailash Gahlot) ने शुक्रवार को क्लस्टर बसों में ई-टिकटिंग एप 'चार्टर' के दूसरे चरण के परीक्षण का निरीक्षण किया। उन्होंने परिवहन विभाग के अधिकारियों के साथ 429 नंबर मार्ग के बसों में सफर किया और चार्टर एप का इस्तेमाल कर टिकट खरीदा।

परिवहन मंत्री ने कहा कि अब तक 20, 000 टिकट चार्टर एप से खरीदे गए, जिसमें 75% पिंक टिकट महिलाओं द्वारा खरीदी गई। बता दें कि दिल्ली सरकार के परिवहन विभाग ने अपनी क्लस्टर बसों में कांटेक्ट लेंस ई-टिकटिंग एप 'चार्टर' के परीक्षण का दूसरा चरण शुरू किया है। 

यह ट्रायल परिवहन मंत्री द्वारागठित एक विशेष टास्क फोर्स द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है। जिसमें परिवहन विभाग इंद्रप्रस्थ सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली इंटीग्रेटेड मल्टीमॉडल ट्रांसिट सिस्टम लिमिटेड, दिल्ली परिवहन निगम और वर्ल्ड रिसोर्सेज इंस्टिट्यूट के विशेषज्ञ शामिल हैं।

रेलवे ने जारी किया 48000 झुग्गी-झोपड़ियों को नोटिस, दिया 14 सितंबर तक का समय

एप की सभी कमियां दूर
पहले चरण के ट्रायल के दौरान ऐप में जो भी कमियां सामने आई थी उसे ट्रायल के दूसरे चरण में दूर किया गया। यह एप अब और भी कई नए फीचर्स को सपोर्ट करता है। इस मोबाइल ईटिकटिंग एप को इंद्रप्रस्थ सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के संस्थान के तकनीकी सहयोग से विकसित किया गया है।

पहले चरण में चार्टर एक्ट का ट्रायल रूट नंबर 473 की सभी क्लस्टर बसों मैं 3 दिनों के लिए किया गया था यात्री बस में चढ़ने के बाद इस मोबाइल ऐप के माध्यम से ही टिकट ले सकते हैं गूगल प्ले स्टोर पर यह ऐप अप फुल वर्जन में उपलब्ध है यात्री चाहे तो ऐप पर  यूआरएल प्राप्त करने के लिए व्हाट्सएप नंबर 99110 96264 पर हाय लिख कर भी भेज सकते हैं।

दिल्ली विधानसभा के मॉनसून सत्र में आने वाले पत्रकारों का भी होगा कोरोना टेस्ट

एप से ये जानकारी हासलि कर सकता है यात्री
इस ऐप में एक उपयोगकर्ता बस के सभी स्टॉपेज को भी देख सकता है और स्टॉप का नाम लिखकर यह भी देख सकता है कि अगले आधे घंटे में कौन-कौन सी बसे आने वाली है। बस में यात्रा के दौरान यात्रा के अपेक्षित समय को रियल टाइम में अपडेट किया जाता है और जैसे ही यात्री अपने गंतव्य पर पहुंच जाता है वैसे ही टिकट अमान्य हो जाता है।

यदि कोई उपयोगकर्ता टिकट का किराया जानता है तो वह ऐप में बाय फेयर पर क्लिक कर सकता है और बस पकड़ते ही बस क्यूआर कोड को स्कैन करके भुगतान करने के बाद टिकट प्राप्त किया जा सकता है। एक उपयोगकर्ता एक यात्री के लिए तीन टिकट तक खरीद सकता है। 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

 

comments

.
.
.
.
.