Wednesday, Jan 26, 2022
-->
Delhi government is playing with people''s faith: BJP

दिल्ली सरकार कर रही लोगों की आस्था से खिलवाड़:भाजपा

  • Updated on 11/10/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पूर्वांचल वर्ग के लिए खास छठ महापर्व के आयोजन, यमुना घाट पर पूजन पर रोक और पाबंदियों को तोडऩे को लेकर दिन भर चली राजनीति के बीच भाजपा ने दिल्ली सरकार पर लोगों की आस्था के साथ खिलवाड़ का सीधा आरोप जड़ा है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता, सांसद मनोज तिवारी ने संयुक्त रूप से प्रेस वार्ता में कहा कि यमुना लगातार मैली हो गई है, लेकिन यमुना की सफाई पर ध्यान देने के स्थान पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सरकार पूर्वांचल समाज की आस्था के सबसे बड़े महापर्व छठ पूजा पर प्रतिबंध लगा रहे हैं। जबकि उन्हें वास्तव में यमुना में तैरते झागों पर प्रतिबंध लगाना चाहिए था।

नवाब मलिक ने फडणवीस पर ‘राजनीति का अपराधीकरण’ करने का आरोप लगाया 

आदेश और तिवारी ने कहा कि यमुना प्रदूषित होने के लिए उसमें गिरने वाले दूषित नालों का पानी है, जिनकी सफाई पर आज तक दिल्ली सरकार ने उचित ध्यान नहीं दिया। भाजपा नेताओं ने कहा कि केजरीवाल छठ पूजा को लेकर जिस तरह से राजनीति कर रही है, उससे छठ पूजा करने वाले व्रतियों और श्रद्धालुओं को ठेस पहुंची है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में लगातार प्रदूषण की समस्या बढ़ रही है चाहे वह यमुना का पानी जहरीली होना हो या फिर वायु प्रदूषण की समस्या हो। लेकिन केजरीवाल सरकार अपने आरोप प्रत्यारोप की राजनीति से बाज नहीं आ रहे हैं।

लखीमपुर कांड में आशीष मिश्रा की बढ़ेंगी मुश्किलें, मृत पत्रकार का भाई पहुंचा कोर्ट 

उन्होंने कहा कि योजना तो बननी चाहिए यमुना की सफाई करने की लेकिन योजना बन रही है उस त्योहार को रोकने की। उन्होंने कहा कि अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए व्रतियों को यमुना पर जाने से रोका जा रहा है ताकि ना छठ व्रती यमुना किनारे जाएंगे और ना ही नदी में बहने वाले झागों को देख सकें।

नहीं पहुंचे वर्मा, इंतजार होता रहा
बुधवार को एक बार फिर से प्रदेश भाजपा के पदाधिकारियों, सांसदों और अन्य प्रदेश के नेताओं के बीच आपसी तालमेल का अभाव स्पष्ट रूप से दिखा। क्योंकि  प्रेस वार्ता में सांसद प्रवेश वर्मा का पहुंचना मुमकिन नहीं था, उन्होंने पहले से ही आईटीओ में बनाए गए कृत्रिम घाट पर जाने का ऐलान किया था। लेकिन आपसी तालमेल के अभाव में प्रदेश भाजपा ने उनका नाम भी वार्ता में शामिल होने वाले नेताओं में शुमार कर दिया। इसी वजह से वार्ता में उनके अंत तक शामिल होने का भी इंतजार खुद पार्टी के कई नेता करते रहे।

comments

.
.
.
.
.