Monday, Oct 25, 2021
-->
delhi-government-made-action-plan-to-tackle-pollution-kmbsnt

प्रदूषण से निपटने के लिए दिल्ली सरकार ने बनाया ये एक्शन प्लान

  • Updated on 2/20/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) के निर्देश पर दिल्ली सरकार धूल के प्रदूषण (Delhi Pollution) को नियंत्रित करने के लिए  दीर्घकालीन कार्य योजना बनाने जा रही है। इसके लिए 7 सदस्यीय कमेटी गठित की गई है। वहीं, मार्च से सितंबर तक एंटी पॉल्यूशन कैंपेन को लागू करने के लिए 4 मार्च को विशेषज्ञों और विभिन्न संगठनों के साथ राउंड टेबल कॉन्फ्रेंस करके उनसे सलाह ली जाएगी।

सरकार ग्रीन वार रूम में आ रही प्रदूषण की शिकायतों को समय से निस्तारित करने में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ अब सीधे कार्रवाई करेगी। कनॉट प्लेस में स्थापित किए जा रहे स्मॉग टॉवर प्रोजेक्ट का काम जून तक पूरा हो जाएगा और इसकी निगरानी के लिए क्लोज मॉनिटरिंग टीम गठित की गई है, जबकि दिल्ली के अंदर मौजूदा प्रदूषण को कम करने के लिए पीडब्ल्यूडी और एमसीडी को पानी के छिड़काव में तेजी लाने के निर्देश दिए गए हैं।

प्रदूषण के खिलाफ केजरीवाल सरकार की बड़ी पहल, जल्द शुरू होगी रियल टाइम मॉनिटरिंग

‘युद्ध, प्रदूषण के विरुद्ध’
मुख्यमंत्री के ‘युद्ध, प्रदूषण के विरुद्ध’ अभियान के तहत पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने दिल्ली के अंदर प्रदूषण को कम करने को लेकर शुक्रवार को पर्यावरण विभाग और डीपीसीसी के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। पर्यावरण मंत्री ने कहा कि पर्यावरण प्रदूषण को लेकर पड़ोसी राज्यों और केंद्र सरकार के साथ भी बातचीत की जाएगी क्योंकि दिल्ली के अंदर जो प्रदूषण की समस्या है, वह सिर्फ दिल्ली की नहीं है।

नॉर्थ इंडिया का जो एयर सेट है, वह पूरे नॉर्थ इंडिया को प्रभावित करता है। पिछले दिनों दिल्ली सरकार ने दिल्ली के अंदर बॉयो डी-कंपोजर का प्रयोग किया है। सरकार ने इसकी रिपोर्ट  पर केंद्रीय अथॉरिटी में पीटिशन दायर की है। अब सरकार उसके फॉलोअप पर लगेगी। उन्होंने कहा कि केंद्रीय अथॉरिटी उस रिपोर्ट को ठीक से समझे और पराली की समस्या के समाधान के लिए अभी से तैयारी की जाए, ताकि पड़ोसी राज्यों में इसको लागू किया जा सके।

थर्मल पॉवर प्लांट से होने वाला प्रदूषण होगा नियंत्रित
उन्होंने कहा कि हम बातचीत करेंगे कि दिल्ली के चारों तरफ जो थर्मल पॉवर प्लांट हैं, ये प्लांट बड़े पैमाने पर प्रदूषण पैदा करते हैं और इसका प्रभाव दिल्ली पर भी पड़ता है। इन थर्मल पॉवर प्लांट से होने वाले प्रदूषण को नियंत्रित करने को लेकर क्या कार्य योजना बनाई जा सकती है, इस पर विचार करेंगे।

गुरनाम सिंह चढूनी बोले- दिल्ली पुलिस अगर गिरफ्तार करने आए तो करें घेराव 

विशेषज्ञों के  लिए जाएंगे सुझाव
उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार दिल्ली के अंदर और दिल्ली के बाहर जो विशेषज्ञ प्रदूषण पर काम कर रहे हैं, उन सभी के सुझावों को लेगी। पिछले साल भी सरकार ने अक्टूबर के बाद काफी कार्रवाई की है। उन्होंने कहा कि सरकार ने दिल्ली के अंदर एंटी डस्ट कैंपेन चलाया, दिल्ली के अंदर बॉयो डीकंपोजर का प्रयोग किया, दिल्ली के अंदर ‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑॅफ’ कैंपेन किया, ग्रीन वार रूम शुरू किया और  ग्रीन एप भी शुरू किया।

इन गतिविधियों के अलावा दिल्ली के प्रदूषण को कम करने के लिए और क्या किया जा सकता है? प्रदूषण पर काम कर रहे विशेषज्ञों और अलग-अलग संगठनों से सरकार सुझाव लेगी और फिर विचार-विमर्श करके कार्य योजना विकसित करेगी।

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.