Monday, Jun 27, 2022
-->
Delhi government responsible for the poor condition of Gaushalas: Ramveer Singh Bidhuri

गौशालाओं की खराब स्थिति के लिए दिल्ली सरकार जिम्मेदार:रामवीर सिंह बिधूड़ी

  • Updated on 1/3/2022

नई दिल्ली / टीम डिजिटल। नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कोरोना के बढ़ते मामलों के लिए आप सरकार पर निशाना साधते हुए सवालों के जवाब मांगे। वहीं उन्होंने कहा कि गौशालाओं की खराब स्थिति के लिए भी दिल्ली सरकार जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि सरकार को यह जवाब देना होगा कि मुख्यमंत्री यह कह रहे हैं कि कोरोना बहुत माइल्ड है।

कोरोना के बढ़ते मामले पर भी आप सरकार को घेरा 

उन्होंने कहा कि क्या सरकार के इस रवैये से जनता में लापरवाही की भावना नहीं बढ़ रही है? क्या दूसरी लहर के दौरान भी मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री यह नहीं कह रहे थे कि डेल्टा तेजी से फैलता है लेकिन यह खतरनाक नहीं है जबकि तब भी प्रलय जैसी स्थिति पैदा हुई। बिधूड़ी ने जानकारी दी कि उन्होंने फिर से कोरोना फैलने और उसके बाद की स्थिति के लिए आप सरकार को कटघरे में खड़ा किया। सरकार से कई सवाल पूछे। उन्होंने कहा कि दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने खुद माना है कि विदेश से आने वाले लोगों के घर जाने के पांच-सात दिन बाद दोबारा जांच करने पर उनमें ओमिक्रोन की पुष्टि हो रही है। इससे ओमिक्रोन के कम्युनिटी स्प्रैड की अधिक संभावना है।

बिगड़े हालात! दिल्‍ली के कुल कोरोना मामलों में ओमिक्रोन के 84 प्रतिशत केस

बिधूड़ी ने कहा कि क्या इसका मतलब यह नहीं है कि दिल्ली सरकार ने विदेश से आने वालों पर नजर नहीं रखी? क्या दिल्ली सरकार ट्रेकिंग और ट्रेसिंग करने में पूरी तरह विफल रही है।  उन्होंने यह भी पूछा कि दिल्ली सरकार ने येलो अलर्ट के तहत राजधानी में मेट्रो और बसों में यात्रा करने के लिए 50 फीसदी क्षमता की ही अनुमति दी है लेकिन यह बताएं कि जनता अपने कामकाज पर कैसे पहुंचे? मेट्रो स्टेशनों पर लंबी लाइनें लग रही हैं जिनमें सोशल डिस्टेंसिंग जैसे नियमों का उल्लंघन हो रहा है। पब्लिक ट्रांसपोर्ट का ढांचा पूरी तरह चरमरा गया है।

भाजपा सांसद का अध्यक्ष नड्डा को पत्र- CM योगी लड़ें मथुरा से चुनाव

उन्होंने कहा कि आप सरकार ने एक भी बस नहीं खरीदी जबकि 11 हजार बसों की खरीद का वादा किया था।उन्होंने कहा कि गौशालाओं के लिए जमीन पूववर्ती सरकारों ने दी थी लेकिन आप सरकार ने न तो कभी जमीन दी और न ही इन गौशालाओं के लिए फंड जारी किया। यही वजह है कि इन गौशालाओं के सामने गंभीर आर्थिक संकट है और उन्हें चलाना मुश्किल हो रहा है।
 

comments

.
.
.
.
.