Friday, Dec 04, 2020

Live Updates: Unlock 7- Day 3

Last Updated: Thu Dec 03 2020 09:52 PM

corona virus

Total Cases

9,564,565

Recovered

9,008,247

Deaths

139,102

  • INDIA9,564,565
  • MAHARASTRA1,837,358
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA887,667
  • TAMIL NADU784,747
  • KERALA614,674
  • NEW DELHI582,058
  • UTTAR PRADESH549,228
  • WEST BENGAL526,780
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA320,017
  • TELANGANA271,492
  • RAJASTHAN268,063
  • HARYANA237,604
  • CHHATTISGARH237,322
  • BIHAR236,778
  • ASSAM212,776
  • GUJARAT209,780
  • MADHYA PRADESH206,128
  • CHANDIGARH183,588
  • PUNJAB153,308
  • JAMMU & KASHMIR110,224
  • JHARKHAND109,151
  • UTTARAKHAND75,784
  • GOA45,389
  • HIMACHAL PRADESH41,860
  • PUDUCHERRY36,000
  • TRIPURA32,723
  • MANIPUR23,018
  • MEGHALAYA11,810
  • NAGALAND11,186
  • LADAKH8,415
  • SIKKIM4,990
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,723
  • MIZORAM3,881
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,333
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
delhi hc centre state govt city police bachpan bachao andolan plea anaj mandi fire

अनाज मंडी अग्निकांड: दिल्ली HC ने मोदी और केजरीवाल सरकार से मांगा जवाब

  • Updated on 12/12/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने बच्चन बचाओ आंदोलन की याचिका पर केंद्र, राज्य सरकार और दिल्ली पुलिस (Delhi Police) से जवाब मांगा है। याचिका में अनाज मंडी (Anaj Mandi) अग्निकांड में घायल हुए बच्चों की सुरक्षा के विषय में सवाल किए गए हैं। 

8 दिसंबर को दिल्ली के अनाज मंडी इलाके की एक इमारत में आग लगने से 43 लोगों की मौत हो गई थी। वहीं इस हादसे में कई लोग घायल भी हो गए थे। इस हादसे में जो बच्चे घायल हुए हैं उनकी सुरक्षा के विषय में ही कोर्ट ने दिल्ली सरकार, केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस से जवाब मांगा है। 

दिल्ली: NGO ने मुक्त कराए बाल मजदूर, 94 प्रतिशत अवैध फैक्ट्रियों में करते थे काम

NGO ने मुक्त कराए लगभग 94 प्रतिशत बाल मजदूर
नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) विजेता कैलाश सत्यार्थी (Kailash Satyarthi) के एनजीओ द्वारा मुक्त कराए गए लगभग 94 प्रतिशत बाल मजदूर (Child Labor) दिल्ली (Delhi) के रिहायशी इलाकों में चल रहीं अवैध फैक्ट्रियों में काम करते थे। एनजीओ ने अनाज मंडी (Anaj mandi) अग्निकांड में 43 प्रवासी मजदूरों की मौत के दो दिन बाद मंगलवार को यह जानकारी दी थी। 

‘बचपन बचाओ आंदोलन’ ने दिल्ली के रिहायशी इलाकों में 2005 से चल रही अवैध वाणिज्यिक इकाइयों में काम कर रहे 8,918 बाल मजदूरों पर अध्ययन किया। शोध के अनुसार अधिकतर बच्चे विकासशील और बड़ी आबादी वाले राज्यों से काम की तलाश में दिल्ली आए।  

अनाज मंडी अग्निकांड: जांच में जुटी CBI की CFSL टीम, 15 दिनों में खुलेंगे सारे राज!

22 प्रतिशत बच्चे उत्तर प्रदेश से
शोध में कहा गया है कि लगभग 22 प्रतिशत बच्चे उत्तर प्रदेश से हैं। मुक्त कराए गए बच्चों में आधे से अधिक (54 फीसदी) बिहार के रहने वाले हैं। शोध के अनुसार जिलावार बात करें तो सबसे अधिक (18 प्रतिशत) बच्चे उत्तर-पूर्वी दिल्ली से मुक्त कराए गए। इसके बाद मध्य दिल्ली (16 प्रतिशत), उत्तरी दिल्ली (15 प्रतिशत), दक्षिण पश्चिमी तथा दक्षिणी दिल्ली (4-4 प्रतिशत) और नई दिल्ली से (2 प्रतिशत) का नंबर आता है। 

अनाज मंडी आग: पुुलिस ने फैक्ट्री मालिक को गिरफ्तार कर 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

ज्यादातर अनधिकृत कॉलोनियों में काम करते हैं बालमजदूर
एनजीओ के प्रवक्ता संपूर्ण बेहुरा ने कहा कि बच्चों को ज्यादातर अनधिकृत कॉलोनियों के खस्ताहाल रिहायशी इलाकों में काम करने के लिए धकेल दिया जाता है, जोकि कि अमानवीय है। बेहुरा ने कहा कि अनाज मंडी काफी हद तक रिहायशी इलाका है, जहां चमड़े के बैग और खिलौनों की पैकिंग की इकाइयां चलती हैं। ऐसे क्षेत्रों का दौरा करने पर आप देखेंगे कि वहां आग लगने या किसी अन्य दुर्घटना की सूरत में सुरक्षित निकासी नहीं है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.