दिल्ली HC से वीरभद्र को झटका, निचली अदालत के आदेश पर स्टे से किया इंकार

  • Updated on 2/6/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली उच्च न्यायालय ने आय के ज्ञात स्रोतों से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय करने के निचली अदालत के आदेश पर रोक लगाने से बुधवार को इनकार कर दिया। 

हिमाचल सरकार ने पीजी की पढ़ाई कर रहे डॉक्टरों के लिये बॉन्ड रकम की आधी

उन पर 10 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति अर्जित करने का आरोप है। न्यायमूर्ति सुनील गौर ने सिंह के खिलाफ आरोप तय करने के निचली अदालत के आदेश को चुनौती देने वाली उनकी याचिका पर सीबीआई का जवाब मांगा। इसके बाद अदालत ने मामले पर अगली सुनवाई के लिए 16 अप्रैल की तारीख तय कर दी। 

AAP लोकसभा चुनाव के मद्देनजर गोवा में एल्विस गोम्स पर लगाएगी दांव

गौरतलब है कि 82 वर्षीय कांग्रेस नेता और उनकी पत्नी ने निचली अदालत के 10 दिसंबर 2018 के उस फैसले को रद्द करने की मांग की है जिसमें सीबीआई द्वारा दर्ज मामले में उनके तथा सात अन्यों के खिलाफ आरोप तय करने के निर्देश दिए गए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.