Friday, Jun 18, 2021
-->
delhi-high-court-reprimanded-modi-bjp-government-national-medical-commission-rkdsnt

दिल्ली हाई कोर्ट ने मोदी सरकार और राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग को लगाई फटकार 

  • Updated on 11/3/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली उच्च न्यायालय ने भारतीय चिकित्सा परिषद (एमसीआई) के कर्मचारियों और अधिकारियों की सेवा के संबंध में यथास्थिति बनाए रखने के आदेश की‘‘अनदेखी‘’का प्रयास करने पर मंगलवार को केन्द्र सरकार और नवगठित राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) को फटकार लगाई। इस साल सितंबर में एनएमसी ने देश में चिकित्सा शिक्षा और चिकित्सकों के नियामक निकाय के रूप में एमसीआई की जगह ले ली थी। 

सुप्रीम कोर्ट का ‘फ्रैंचाइजी रैकेट’ की जांच के लिए याचिका पर मोदी सरकार को नोटिस 

जस्टिस हिमा कोहली और जस्टिस सुब्रमण्यम प्रसाद की पीठ ने एमसीआई के अधिकारियों के कंप्यूटर बंद करने, उनकी हाजिरी के लिए बायोमीट्रिक प्रणाली हटाने और उन्हें सात अक्टूबर तक परिसर खाली करने का निर्देश देने से संबंधित केन्द्र सरकार और एनएमसी के पांच अक्टूबर फैसले पर नाराजगी जाहिर की। 

तेजस्वी, तेज प्रताप के चुनावी हलफनामे को लेकर चुनाव आयोग से मिला जदयू शिष्टमंडल

पीठ ने कहा कि अदालत ने पिछले साल नवंबर में एमसीआई के अधिकारियों की सेवा के संबंध यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया था। पांच अक्टूबर को लिया गया फैसला प्रथम दृष्ट्या उस आदेश की अनदेखी का प्रयास है। लिहाजा केन्द्र और एनएमसी के फैसले पर 12 जनवरी 2021 को अगली सुनवाई तक रोक लगाई जाती है। 

राष्ट्रपति चुनाव : हिंसा के डर से व्हाइट हाउस, अमेरिकी कारोबारियों ने सुरक्षा बढ़ाई

अदालत ने केन्द्र और एनएमसी से सवाल किया कि जब एमसीआई के अधिकारियों को उनकी ड्यूटी नहीं करने दी जा रही तो वे उन्हें वेतन का भुगतान कर जनता के पैसे को‘‘बर्बाद‘’क्यों कर रहे हैं। पीठ ने कहा,‘‘कौन सी व्यवस्था आपको इस तरह के भुगतान की अनुमति देती है? ऐसा करने के लिए आपको (एनएमसी) कोष कहां से मिल रहा है। क्या आपने एमसीआई के कोष पर कब्जा कर लिया है? क्या आप इस तरह जनता का पैसा खर्च कर सकते हैं?‘‘

कृषि कानून : सीएम अमरिंदर को राष्ट्रपति ने नहीं दिया समय, अब राजघाट पर देंगे धरना

एनएमसी की ओर से पेश वकील ने अदालत को बताया कि एनएमसी ने एमसीआई के अधिकारियों और कर्मचारियों के सिंतबर और अक्टूबर के वेतन का भुगतान कर दिया है, लेकिन उन्हें कोई काम नहीं दिया जा रहा है। एनएमसी के वकील की इस बात पर अदालत ने ये कड़ी टिप्पणियां कीं। 

महिला से छेड़खानी के आरोप में बॉलीवुड अभिनेता विजय राज गिरफ्तार

अदालत ने पांच अक्टूबर के आदेश पर रोक लगाते हुए निर्देश दिया कि एमसीआई के अधिकारियों के कंप्यूटरों का चालू रखा जाए। साथ ही उनकी हाजिरी के लिए बायोमीट्रिक प्रणाली लगाई जाए। एमसीआई के 94 कर्मचारियों और अधिकारियों ने अवमानना याचिका दायर की थी, जिसपर अदालत ने यह आदेश दिया। याचिका में दावा किया गया था कि पांच अक्टूबर का आदेश उच्च न्यायालय के 11 नवंबर 2019 के आदेश की अवमानना है। 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

 


 

comments

.
.
.
.
.