Friday, Dec 06, 2019
delhi high court reserves verdict om prakash chautala plea on release

हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओपी चौटाला की रिहाई पर दिल्ली HC ने फैसला रखा सुरक्षित

  • Updated on 11/26/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हरियाणा (Haryana) के पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला (OP Chautala) की रिहाई की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने फैसला सुरक्षित रख लिया है। चौटाला के वकील का कहना है कि अदालत इस सप्ताह अपना फैसला सुना सकती है। चौटाला ने अपनी याचिका में कहा था उनकी सजा तय मापदंड के अनुसार पूरी हो चुकी है, इसलिए उन्हें रिहा किया जाना चाहिए। 

न्यायाधीश मनमोहन और न्यायाधीश संगीता सहगल की खंडपीठ ने इस मामले में सुनवाई पूरी करते हुए फैसला सुरक्षित रख लिया है। ओपी चौटाला ने लोकसभा चुनाव से पहले दिल्ली हाई कोर्ट में बढ़ती उम्र और दिव्यांगता के चलते समय से पूर्व माफी के लिए याचिका दायर की थी। दिल्ली हाई कोर्ट ने मामले का निपटान करने के लिए दिल्ली सरकार को आदेश दिया था, लेकिन ये मामला अब भी विचाराधीन है। 

उच्च न्यायालय ने चौटाला की पैरोल चार हफ्ते के लिए बढ़ा दी

जेबीटी शिक्षक भर्ती घोटाले में थे दोषी
हरियाणा के जेबीटी शिक्षक भर्ती घोटाले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी पाए गए थे। उनको इस मामले में 10 साल की सजा हुई थी। ओपी चौटाला और उनके बेटे अजय चौटाला को 16 जनवरी 2013 को कोर्ट ने 10-10 साल की सजा सुनाई थी। 

ओम प्रकाश चौटाला को पोते की सगाई के लिए मिली हफ्ते भर की पैरोल

62 लोगों को के खिलाफ चला था केस
हरियाणा के तत्कालीन प्राथमिक शिक्षा निदेशक संजीव कुमार ने जेबीटी शिक्षक भर्ती घोटाले को उजागर किया था। उन्होंने इस मामले की जांच के लिए हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। 2003 में कोर्ट के आदेश के बाद इस मामले में सीबीआई द्वारा जांच शुरु की गई। इस मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला, उनके बेटे अजय चौटाला समेत 62 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया था। इसके साथ ही इस घोटाले के खिलाफ जांच की मांग करने वाले संजीव कुमार के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया था।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.